पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59037.18-0.72 %
  • NIFTY17617.15-0.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48458-0.16 %
  • SILVER(MCX 1 KG)646560.47 %

मुजफ्फरनगर..सांस लेना मुहाल AQI 358 पार:उत्तराखंड से चली ठंडी हवा ने बढाई मुश्किल, दूसरे दिन AQI 423 से मिली लोगों को राहत

मुजफ्फरनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धुंध के बीच वातावरण में वायु प्रदूषण को दर्शाता फाईल फोटो। - Money Bhaskar
धुंध के बीच वातावरण में वायु प्रदूषण को दर्शाता फाईल फोटो।

ठंड के मौसम में बढे वायु प्रदूषण के चलते लोगो का सांस लेना मुहाल हो रहा है। अचानक से एअर क्वालिटी इंडेक्स (AQI ) का ग्राफ ऊंचा जा रहा है। हांलाकि शनिवार को लोगों को एक दिन पहले के AQI 423 से राहत मिली। शनिवार सुबह शहर में AQI 358 नोट किया गया। उत्तराखंड से चल रही ठंडी हवा को AQI बढने का तत्कालीन कारण माना जा रहा है।

एनसीआर में हवा लगातार प्रदूषित होती जा रही है। दीपावली के बाद से जिले के लोगोंं पर संकट है। नवंबर माह की ही बात करें तो यहां AQI दो बार 400 के पार पहुंच चुका है। शुक्रवार का दिन सांस के मरीजों पर काफी भारी रहा। अचानक से AQI 423 पर जाने के चलते सेहतमंद लोगों के लिए भी सांस लेना मुश्किल हो गया। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अधिकारियों ने एंटी स्माग गन व टैंकर से पानी का छिड़काव कर दूषित हवा पर काबू पाने का प्रयास किया। लेकिन अधिक सफलता नहीं मिली। बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी अंकित सिंह का कहना है कि ठंड के दिनों में यह समस्या आम है। बताया कि उत्तराखंड से चली ठंडी हवा के कारण AQI स्तर काफी ऊंचा जा रहा है। बताया कि शनिवार को एक दिन पहले के हालात से थोड़ा राहत महसूस हुई। उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह शहर में AQI 358 रिकार्ड किया गया।

शनिवार सुबह शहर में रिकार्ड किये गए एक्यूआइ स्तर की स्थिति।
शनिवार सुबह शहर में रिकार्ड किये गए एक्यूआइ स्तर की स्थिति।

वायु प्रदूषण करने पर की जा रही जुर्माने की कार्रवाई

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी अंकित सिंह का कहना है कि जनपद में वायु प्रदूषण करने वालों के विरुद्ध कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। बताया कि मानको का उल्लंघन करने वाले औद्योगिक आस्थानों पर जुर्माने की कार्रवाई की जा रही है। बताया कि हाल में जिले के त्रिमूर्ति इंजीनियरिंग वर्क्स के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए 65.75 लाख का जुर्माना लगाया गया था। इनके अलाव विभिन्न गुड़ काेल्हुओं पर भी प्रतिबंधित ईंधन प्रयोग करने पर जुर्माने की कार्रवाई की जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...