पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नरेश टिकैत से मुलाकात मंत्री बालियान के लिए मजबूरी?:भाकियू अध्यक्ष बोले- हर प्रत्याशी को आशीर्वाद देंगे, लेकिन वोट की बात न करे; डैमेज कंट्रोल में जुटी BJP

बुढ़ाना, मुजफ्फरनगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने सोमवार को मुजफ्फरनगर के सिसौली गांव में भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत के आवास पर उनसे मुलाकात की। संजीव बालियान ने कहा, 'यह एक शिष्टाचार भेंट है। इसके सियासी मायने न निकाले जाएं। हाल ही में नरेश टिकैत का ऑपरेशन हुआ था। उनके स्वास्थ्य का हाल जानने आया हूं।'

इसके बाद से इस मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। माना जा रहा है कि पश्चिमी यूपी में बीजेपी के डैमेज कंट्रोल के लिए बालियान टिकैत की शरण में पहुंचे हैं। उधर, नरेश टिकैत ने कहा, किसी भी पार्टी का कोई प्रत्याशी आएगा तो हम सबको आशीर्वाद देंगे लेकिन यहां से वोट मांगने की बात कोई न करे।

बता दें कि भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत पिछले सप्ताह नहाने के दौरान बाथरूम में फिसलकर गिर गए थे। हादसे में उनके बाएं कंधे में गंभीर चोट लगी थी। नोएडा के अस्पताल में उनके कंधे का ऑपरेशन हुआ। रालोद अध्यक्ष जयंत सिंह भी उनसे मिलने पहुंचे थे। जिसके बाद से सिसौली स्थित आवास पर लोगों की आवाजाही लगी हुई है।

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने नरेश टिकैत से की मुलाकात।
केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने नरेश टिकैत से की मुलाकात।

खुले मंच से सपा गठबंधन का किया था समर्थन

बता दें शनिवार को भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने किसान भवन सिसौली में खुले मंच से समाजवादी पार्टी और लोकदल के गठबंधन को समर्थन देने के साथ-साथ लोगों से गठबंधन को जिताने की अपील की थी। जिसके बाद से ही बीजेपी में हलचल मच गई थी। इसके 24 घंटे बाद ही वह अपने बयान से पलट गए थे।

बता दें कि लंबे समय तक चले किसान आंदोलन के दौरान भाजपा नेताओं से नाराज चल रहे किसानों और भाकियू नेताओं ने भाजपा नेताओं की सिसौली में एंट्री बैन कर दी थी। जिसके बाद से केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान आज पहली बार सिसौली पहुंचे।

चौधरी नरेश टिकैत (फाइल फोटो)।
चौधरी नरेश टिकैत (फाइल फोटो)।

किसान आंदोलन के प्रमुख चेहरों में एक नरेश टिकैत

सियासी जानकारों का मानना है कि, कहीं न कहीं संजीव बालियान की नरेश टिकैत से अचानक हुई यह मुलाकात 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर ही है। दरअसल, साल भर चले किसान आंदोलन में नरेश टिकैत और राकेश टिकैत प्रमुख चेहरा रहे हैं। बीजेपी के विरोध में राकेश टिकैत बंगाल तक चुनावों के दौरान पहुंचे थे। माना जा रहा है कि पश्चिमी यूपी में 2022 विधानसभा चुनावों में भाजपा को बड़ा झटका लग सकता है।

पार्टी की इमेज सुधारने में जुटी बीजेपी

नरेश टिकैत द्वारा गठबंधन पर दिए गए बयान से पलटने के बाद भाजपा को एक उम्मीद जगी है कि किसी तरह पश्चिमी यूपी में पार्टी की इमेज को सुधारा जाए। सियासी गलियों में इसे भाजपा के लिए एक अवसर के रूप में देखा जा रहा है।