पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुरादाबाद में सिपाही ने छात्रा से किया रेप:छात्रा का आरोप-शादी का झांसा देकर 2 साल तक बनाए संबंध, कहा- इंसाफ नहीं मिला तो कर लूंगी आत्महत्या

मुरादाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुरादाबाद में 22 साल की छात्रा ने पुलिस कांस्टेबल पर रेप का आरोप लगाया है। युवती का कहना है कि आरोपी सिपाही उसकी सहेली का चचेरा भाई है और अमेठी में तैनात है। पीड़िता का आरोप है कि निकाह करने का झांसा देकर सिपाही पिछले एक साल से उसके साथ शारीरिक संबंध बना रहा था। लेकिन शादी का दबाव देने पर अब उसने बात करना भी बंद कर दिया है। पीड़िता BTC की छात्रा है।

छात्रा का आरोप है कि वो शिकायत लेकर मुरादाबाद डीआईजी शलभ माथुर के पास गई थी, लेकिन उसकी फरियाद पर कोई एक्शन नहीं हुआ। पीड़िता ने इंसाफ नहीं मिलने पर आत्महत्या करने की धमकी दी है।

'सहेली ने कमरे में भेजकर दरवाजा बंद कर दिया'

यह फोटो डीआईजी शलभ माथुर की है।
यह फोटो डीआईजी शलभ माथुर की है।

पीड़ित छात्रा ठाकुरद्वारा थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली है। पीड़िता ने बताया कि गांव की ही एक युवती उसकी बेस्ट फ्रेंड है। जिसका चचेरा भाई पुलिस में सिपाही है वह अमेठी में तैनात है। पीड़िता के मुताबिक 14 मई 2021 को मीठी ईद का दिन था। उस दिन सिपाही छुट्टी पर गांव आया था। तभी उसने सहेली के घर बुलाया और वहां शादी का झांसा देकर रेप किया।

पीड़िता ने बताई आपबीती

"मेरी बेस्ट फ्रेंड ने अपने चचेरे भाई से मिलवाते हुए मुझसे कहा कि आप दोनों को निकाह करा देंगे। इसके बाद वो कांस्टेबल मेरा मोबाइल नंबर ले गया और मुझसे बातें करने लगा। फिर करीब एक साल पहले जब वो छुट्टी पर घर आया तो मेरी सहेली मुझे अपने घर ले गए। वहां उसका कांस्टेबल भाई पहले से मौजूद था। सहेली ने मुझे उसके कमरे में मुझे भेजकर बाहर से दरवाजा बंद कर दिया। मैंने बहुत कोशिश की, लेकिन उसने गेट नहीं खोला। इसके बाद कांस्टेबल ने मेरी मर्जी के खिलाफ मेरे साथ रेप किया। मैं रोने लगी तो बोला, रोओ मत मैं तुमसे निकाह कर लूंगा।"

एक साल तक किया शारीरिक शोषण

पीड़िता का कहना है कि आरोपी सिपाही उसका एक साल तक शारीरिक शोषण करता रहा। हर बार उसे शादी कर लेने का आश्वासन देता था। लेकिन कुछ वक्त पहले उसने फोन करना बंद कर दिया। अब शादी करने की बात से मुकर गया है। पीड़िता का कहना है कि वो इंसाफ चाहती है। लेकिन पुलिस अधिकारियों के चक्कर लगाने के बाद भी उसकी FIR तक दर्ज नहीं हो रही है।

यह फोटो ठाकुरद्वारा थाने की है।
यह फोटो ठाकुरद्वारा थाने की है।

ठाकुरद्वारा पुलिस पर लगाए आरोप

पीड़िता का कहना है कि जब वह शिकायत लेकर ठाकुरद्वारा थाने पहुंची तो पुलिस ने एक्शन के बजाए उस पर समझौते के लिए दबाव बनाया। पीड़िता का कहना है कि उसके साथ इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी कोई अधिकारी उसकी फरियाद सुनने को तैयार नहीं है। थाने की पुलिस एक्शन लेने के बजाए लगातार उस पर सिपाही से समझौता कर लेने का दबाव बना रही है।

मामले में आरोपी सिपाही का पक्ष लेने की कोशिश की गई लेकिन उसका नंबर स्विच ऑफ था। इंस्पेक्टर ठाकुरद्वारा प्रभाकर शर्मा ने बताया कि उन्होंने तीन दिन पहले ही चार्ज संभाला है और मामला उनकी जानकारी में नहीं है। इंस्पेक्टर ने बताया कि इस संबंध में कोई भी लिखित या मौखिक शिकायत नहीं आई है।