पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लैटिन अमेरिका में EPCH का "मेड इन इंडिया" शो:ग्वाटेमाला सिटी में धूम मचा रहे मुरादाबाद के होम डेकोर हैंडीक्राफ्ट आइटम

मुरादाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (EPCH) ग्वाटेमाला (लैटिन अमेरिका) में "मेड इन इंडिया" शो का आयोजन कर रहा है। भारतीय उच्चायोग की मदद से आयोजित की गई इस ट्रेड शो प्रदर्शनी में मुरादाबाद के होम डेकोर और होम फर्निंशिंग उत्पादों को भी प्रमुखता के साथ प्रदर्शित किया गया है। ट्रेड शो में भारतीय कला और शिल्प और भारतीय हस्तशिल्प निर्माताओं और निर्यातकों के अन्य उत्पादों को भी प्रदर्शित किया गया है।

EPCH के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि, मेड इन इंडिया - ट्रेड शो प्रदर्शनी का आयोजन 22 से 24 सितंबर तक ग्वाटेमाला सिटी में हो रहा है। उन्होंने बताया कि भारत के कोने-कोने से आए 10 राष्ट्रीय मास्टर शिल्पकार और निर्यातक इस शो में अपने हस्तशिल्प उत्पादों को प्रदर्शित कर रहे हैं। जिन हस्तशिल्प उत्पादों को इस शो में प्रदर्शित किया जा रहा है उनमें प्रमुख रूप से होम डेकोर, होम फर्निशिंग, कालीन, फर्नीचर, लैंप, फैशन ज्वैलरी और एक्सेसरीज, धूप, सुगंध और वेलनेस उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला शामिल है।

ये तस्वीर ग्वाटेमाला सिटी में इंडियन पवेलियन की है।
ये तस्वीर ग्वाटेमाला सिटी में इंडियन पवेलियन की है।

ग्वाटेमाला के उपराष्ट्रपति ने किया इंडियन पवेलियन का उद्घाटन

ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि ग्वाटेमाला के उप राष्ट्रपति और कार्यवाहक राष्ट्रपति गुइलेर्मो कैस्टिलो और ग्वाटेमाला में भारत के राजदूत डॉ मनोज कुमार महापात्रा ने ग्वाटेमाला में मेड इन इंडिया ट्रेड शो का उद्घाटन किया I राकेश कुमार ने बताया कि ग्वाटेमाला के उपराष्ट्रपति ने मेड इन इंडिया - ट्रेड शो प्रदर्शनी आयोजित करने और हस्तशिल्प क्षेत्र को मजबूत करने के प्रयासों को जारी रखने के लिए के लिए ईपीसीएच को अपना पूर्ण सहयोग और समर्थन देने का आश्वासन दिया है I

लैटिन अमेरिकी क्षेत्र में व्यापार को बढ़ाएगी ये प्रदर्शनी
ईपीसीएच के चेयरमैन राज कुमार मल्होत्रा ने बताया कि भारतीय कला और शिल्प पर आधारित यह मेड इन इंडिया - ट्रेड शो लैटिन अमेरिकी क्षेत्र में भारतीय हस्तशिल्प उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देगा। उन्होंने कहा कि ये प्रदर्शनी खरीदारों और प्रदर्शकों को एक प्लेटफार्म प्रदान करेगी।

ये तस्वीर ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार की है। उन्होंने बताया कि भारत के हस्तशिल्प निर्यात में करीब 25 फीसदी की बढोत्तरी दर्ज की गई है।
ये तस्वीर ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार की है। उन्होंने बताया कि भारत के हस्तशिल्प निर्यात में करीब 25 फीसदी की बढोत्तरी दर्ज की गई है।

24.49 फीसदी बढ़ा है हस्तशिल्प निर्यात

कोविड के बावजूद पिछले एक साल में भारतीय हस्तशिल्प निर्यात में 24.49 फीसदी की रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की गई है। ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान भारत का हस्तशिल्प निर्यात 33253 करोड़ रुपये (4459.76 मिलियन अमेरिकी डॉलर) था, जो बीते वर्ष की तुलना में 29.49 प्रतिशत अधिक था। डॉलर के नजरिए से देखें तो भारतीय हस्तशिल्प उत्पादों के निर्यात में 28.90 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। राकेश कुमार ने बताया कि, लैटिन अमेरिका को पिछले वित्तीय वर्ष में भारत से 682 करोड़ रुपये के हस्तशिल्प उत्पादों का निर्यात किया गया था।