पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मिर्जापुर के विंध्य क्षेत्र में बढ़ेगी जंगल की जमीन:वन विभाग में आयोजित किया गया कार्यशाला, दस हजार हेक्टेयर जमीन बढ़ने की है उम्मीद

मिर्जापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वन विभाग के मौलश्री सभागार में हुआ आयोजन - Money Bhaskar
वन विभाग के मौलश्री सभागार में हुआ आयोजन

मिर्जापुर में वन भूमि को संरक्षित रखने के लिए वन विभाग के मौलश्री सभागार में विभागीय कार्यशाला का आयोजन किया गया । जिसमें प्रभागीय वनाधिकारी ने वन भूमि के संरक्षण पर जोर दिया । बताया कि बिना किसी त्रुटि के प्रस्ताव जाने के बाद विभिन्न धाराओं का प्रकाशन होने पर विंध्य क्षेत्र में दस हजार हेक्टेयर वन भूमि का इजाफा होगा । जिसके संरक्षण और वृक्षारोपण की सम्पूर्ण जिम्मेदारी वन विभाग की होगी ।

त्रुटि विहीन प्रस्ताव बढ़ायेगा वन क्षेत्र

कार्यशाला का शुभारंभ प्रभागीय वनाधिकारी पीएस त्रिपाठी ने करते हुए कहा कि वन अधिनियम 1927 यथा संशोधित के अंतर्गत धारा 4 धारा 20 एवं धारा 29 से संबंधित गुणवत्ता युक्त प्रस्ताव शासन को भेजा जाना है । जिसे बनाते समय सावधानी की जरूरत है । उसमें किसी भी प्रकार की कोई कमी न रह जाएं । जिससे वह अधर में लटक सके । कहा कि उसके नक्शे को राजस्व विभाग से प्राप्त करने में आ रही दिक्कतों का निराकरण करते हुए सरकार को भेजे जाने वाले प्रस्ताव को त्रुटि विहीन बनाया जाय ।

वन संरक्षक ने अनुभवों को किया साझा

कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए मुख्य वन संरक्षक रमेश चंद्र झा ने कहा कि त्रुटि रहित प्रस्ताव आपके योग्यता और कर्मठता के साथ ही आपकी सक्रियता का प्रमाण साबित होगा । जिसे शासन के निर्देशों के अनुरूप भेजने की बात कही । उसे सावधानी पूर्वक बनाने पर विस्तार से जानकारी दी ।

छोटी छोटी त्रुटि बन सकती हैं ब्रेक

प्रभागीय वन अधिकारी ओबरा एवं पंकज कुमार शुक्ला उप प्रभागीय वन अधिकारी चुनार ने छोटे-छोटे कमियों व तकनीकी त्रुटि का निराकरण करने की विधि बताया । कहा कि जरा सी असावधानी से पूरे प्रस्ताव पर असर पड़ता हैं । कार्यशला में ओबरा वन प्रभाग के बंदोबस्त प्रभारी ने कहा कि विभिन्न तहसीलों और गांवों में वन विभाग की जमीनें हैं। जिनका अबतक धारा प्रकाशन नहीं किया गया है। सरकार के निर्देश के अनुसार जल्द कार्रवाई कर विधिवत प्रस्ताव बनाया जाय ।

कई जिले के जुटे वनाधिकारी

कार्यशाला में उप प्रभागीय वनाधिकारी श्रीमती प्रमिला, उप प्रभागीय वनाधिकारी चुर्क डा सिरीन, राकेश कुमार सहायक वन संरक्षक, मनीष कुमार सिंह उप प्रभागीय अधिकारी नौगढ़ एवं मंडल के वन अधिकारी, वन दरोगा बंदोबस्त शाखा प्रभारी शामिल हुए।

खबरें और भी हैं...