पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मिर्जापुर में अनोखा आविष्कार:दिव्यांग बेटे की जिद पर मजदूर पिता ने बनाई ट्राई साइकिल; 6 महीना लगा समय, 5 हजार आया खर्च

मिर्जापुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजबलि मौर्य ने बेटे के लिए ट्राइ साइकिल बनाई है। - Money Bhaskar
राजबलि मौर्य ने बेटे के लिए ट्राइ साइकिल बनाई है।

आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है...इस कहावत को सच कर दिखया है मिर्जापुर के राजबली मौर्य ने। वह पेशे से मजदूर हैं। उनके तीन बेटे और एक बेटी है। दूसरे नंबर का बेटा आर्यन (18) दिव्यांग है। राजबली मौर्य ने बताया कि वह दूसरों बच्चों को साइकिल चलाकर देखने पर अक्सर उससे साइकिल की जिद करता था। आर्यन शारीरिक रूप से असमर्थ है, ऐसे में उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह क्या करे।

इसी बीच करीब छह महीने पहले उसे आइडिया सूझा। उसने दुकान से साइकिल का रिम, टायर, फ्रेम आदि खरीदा। इसके लिए उसे करीब 5 हजार खर्च करने पड़े। छह महीने की मेहनत के बाद उसने बिना गद्दी, पैडल और ब्रेक एक ट्राइ साइकिल बना दी।

बेटे को खुश देखकर परिवार को मिलती खुशी

राजबली ने जब यह साइकिल अपने बेटे आर्यन को दी तो वह खुशी से झूम उठा। जुगाड़ वाली साइकिल अब वह मोहल्ले में ही इधर-उधर साइकिल घुमाता है। जिसे देखकर पिता समेत पूरे परिवार को खुशी मिलती है।

देहात कोतवाली क्षेत्र के हनुमान पड़रा में राजबली का घर है। मजदूर होने के कारण उसकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। उसका कहना है कि सरकार उसे बच्चे की मदद करे। बस उसे इतना ही चाहिए। उधर, जिला दिव्यांग जन कल्याण अधिकारी राजेश कुमार सोनकर ने दिव्यांग आर्यन के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।

खबरें और भी हैं...