पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बलिदान दिवस पर आदिवासियों ने संघर्ष का लिया संकल्प:जिला प्रशासन नहीं बना रहा जाति का प्रमाण पत्र, आंदोलन की राह चला आदिवासी समाज

मिर्जापुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाेंड साम्राज्य की वीरांगना महारानी दुर्गावती का 458 वां बलिदान दिवस समारोह मनाया गया - Money Bhaskar
गाेंड साम्राज्य की वीरांगना महारानी दुर्गावती का 458 वां बलिदान दिवस समारोह मनाया गया

देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, लेकिन मिर्जापुर में आदिवासी परिवार से जुड़ी गोंड बिरादरी जातीय प्रमाण पत्र के लिए तरस रही है। अपने वजूद को बचाने के लिए वीरांगना दुर्गावती के बलिदान दिवस पर जातीय प्रमाण पत्र के लिए संघर्ष का संकल्प लिया गया।

गाेंड साम्राज्य की वीरांगना महारानी दुर्गावती का 458वां बलिदान दिवस समारोह मनाया गया। कहा कि साजिश के तहत सरकारी रिकार्ड से आदिवासी बिरादरी को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा हैं। जिसकी जितनी निंदा की जाय वह कम हैं।

भारी संख्या में जुटे गोंड समाज के लोग
अनगढ़ मोहल्ला स्थित एक लॉन में आयोजित कार्यक्रम में वक्ताओं ने कहा कि जिले में करीब 50 हजार की जनसंख्या में होने के बावजूद उन्हे एक अदद जातीय प्रमाण पत्र नहीं मिल रहा हैं। करीब चार साल पूर्व उन्हें आदिवासी गोंड जन जाति का प्रमाण पत्र मिल जाता था। कुछ वर्षों से तहसील कर्मी प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने पर दूसरी जाति का प्रमाण पत्र दे रहें हैं, जो बिरादरी के साथ अन्याय है।

वक्ताओं ने दिया समर्थन
मुख्य अतिथि एमएलसी विनीत सिंह के प्रतिनिधि के रूप में पहुंचे उनके पुत्र आकाश सिंह उर्फ सन्नी ने कहा कि लाखों हजारों साल पुरानी हमारी प्राचीन सभ्यता और संस्कृति बदलते दौर में विकास के पथ पर चलकर आज भी कायम है। विशिष्ट अतिथि भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि निरंतर प्रयास करने वालों की ही जीत होती हैं।

एकजुटता पर दिया गया जोर
जिला पंचायत अध्यक्ष राजू ने कहा कि समाज का उत्थान उसकी जागरुकता और साथ मिलकर चलने से ही होता है । कार्यक्रम में भाजपा के वरिष्ठ नेता रवि शंकर साहू , जिला पंचायत सदस्य कृष्ण कुमार सिंह, राम उजागर गोंड , गुलाब गोंड आदि ने विचार व्यक्त किया।

कार्यक्रम संयोजक भाजपा जनजाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री रमेश गोंड ने अतिथियों का आभार जताया। अध्यक्षता शंकर सिंह और संचालन अखिल भारतवासी गोंड महासभा उतर प्रदेश के महामंत्री रामप्यारे गोंड ने किया।