पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मिर्जापुर में मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय मादक विरोध दिवस:सरकार ने शराब, बीयर व भांग की दुकानें रखी बंद, हुआ 1 करोड़ का नुकसान

मिर्जापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अंतर्राष्ट्रीय मादक विरोध दिवस पर बंद शराब की दुकान - Money Bhaskar
अंतर्राष्ट्रीय मादक विरोध दिवस पर बंद शराब की दुकान

प्रदेश में नशीले पदार्थों और मादक पदार्थों की तस्करी के खिलाफ मिर्जापुर जिले में भी अंतर्राष्ट्रीय मादक विरोध दिवस पर शराब और बीयर की दुकानें बंद रही। बंदी के चलते दुकानों पर बंद ताला देख तमाम लोगों को बैरंग वापस लौटना पड़ा। जन जागरण के लिए एक दिन की बंदी से करीब एक करोड़ का नुकसान सरकार को उठाना पड़ा ।

मादक पदार्थों के दुकानों पर लटका रहा ताला
आम जनता को नशीले पदार्थों से दूर रहने के लिए सरकार ने अपनी लाइसेंसी दुकानों को रविवार के दिन बंद रखा। जनता को स्वस्थ रहने का संदेश देने के लिए एक दिन की सांकेतिक बंदी का व्यापक असर रहा। शराब और मादक पदार्थों से दूरी का संदेश देने के लिए अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ विरोध दिवस पर दिन अंग्रेज़ी शराब, बियर, देसी शराब व भांग की दुकानों का ताला शाम 5 बजे तक बंद रहा।

जनहित के लिए एक करोड़ का नुकसान
सरकारी आदेश पर सुबह से बन्द दुकानों के कारण मादक पदार्थ का सेवन करने वालों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। जिले में अंग्रेजी शराब की 65 दुकानें हैं। बियर की 52 और गांव तक फैले देसी शराब की दुकानों की संख्या 191 है। शराब की दुकानों को दिन भर बंद करके लोगों के स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने का संदेश दिया गया। रविवार को साप्ताहिक अवकाश के दिन मौज मस्ती की कल्पना कर शराब की दुकानों पर पहुंचे लोगों को मायूसी हाथ लगी।

जब जागो, तभी सवेरा
जिला आबकारी अधिकारी नीरज द्विवेदी ने कहा कि नशे के गिरफ्त में आने से बचाने के लिए सरकार ने सार्थक प्रयास किया है। एक दिन की बंदी लोगों के लिए सोचने और समझने का अवसर दिया है। युवा पीढ़ी मादक पदार्थों से दूरी बनाकर अपनी पूरी शारीरिक क्षमता के साथ समाज और देश के विकास में सहयोग कर सकें। इसके लिए यह पहल किया गया है।

खबरें और भी हैं...