पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरधना...दो पक्षों की लड़ाई के चलते पिस रहे ग्रामीण:प्रशासन की नाकामी से 20 साल से समस्या से जूझ रहे ग्रामीण

सरधनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गांवों में पानी निकासी की समस्या का कारण बना नाले से प्रशासन 20 साल बाद भी अवैध कब्जा हटाने में नाकाम रहा है। हालांकि मामला कोर्ट में विचाराधीन है। लेकिन इस मामले में गुरुवार को पीआईएल के चलते उप जिलाधिकारी ने मौके पर एक टीम समाधान के लिए भेजी।

जो पैमाइश कर के वापस लौट गई और अपनी रिपोर्ट उप जिलाधिकारी को सौंप दी। दूसरी ओर ग्रामीणों का कहना है कि इस मामले में मूंछों की लड़ाई के चलते गांवों के लोग आपस में पिस रहे हैं। लेकिन प्रशासन चाह कर भी इस मामले में कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर पा रहा है ।

गांव में जमीन की पैमाइश करती जिलाधिकारी द्वारा भेजी गई टीम
गांव में जमीन की पैमाइश करती जिलाधिकारी द्वारा भेजी गई टीम

बताया गया है कि एक नाला चिंदौडी गांव से निकलकर भदौडा व ढडरा में तक जाता है। जिससे 3 गांव की पानी निकासी होने के चलते लगभग 33 फिट चौड़ाई और लगभग 5 किलोमीटर लंबे इस नाले पर अतिक्रमण किया गया है। जिसके चलते गांवों की पानी निकासी पिछले 20 साल से रुकी हुई पड़ी है।

बताया गया कि इस मामले में सुखबीर सिंह पुत्र महाशय, कर्मवीर पुत्र महाशय, दूसरे पक्ष के ओमवीर सिंह पुत्र कंवरपाल पूर्व कैप्टन के बीच पैमाइश को लेकर विवाद है। इसके चलते समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है और मामला कोर्ट में विचाराधीन है। जिसे लेकर यहां प्रशासन कई बार पैमाइश करके समस्या के समाधान के लिए आ चुका है। लेकिन कोई हल नहीं निकल पाता है।

हालांकि इस मामले में अब पीआईएल के तहत की गई अपील में गुरुवार को उप जिला अधिकारी संदीप भागिया ने नायब तहसीलदार के नेतृत्व में 6 सदस्य टीम गठित करके नाली की समस्या के समाधान के लिए पहुंची। लेकिन टीम नाले की पैमाइश कर के ले गई और अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी।

खबरें और भी हैं...