पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेंस रिकर्व इंडिविजुअल ओपन में 10वें स्थान पर रहे विवेक:मेरठ के विवेक चिकारा ने क्वालीफाइंग राउंड में 609 अंक लिए, विवेक 3 सितंबर को नॉकआउट राउंड में खेलेंगे

मेरठएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

टोक्यो पैरालिंपिक में हुए पुरुष रिकर्व इंडिविजुअल ओपन के मुकाबले में मेरठ के विवेक चिकारा 10वे ंस्थान पर रहे। विवेक ने 609 अंक लेकर 10वां स्थान लिया है। विवेक अब 3 सितंबर को नॉकआउट मुकाबले में खेलेंगे। नॉकआउट मुकाबले में सभी 30 धर्नुधरो ंके बीच में फाइट होगी। इस मुकाबले को क्लियर करने वाले तीरंदाज सेमीफाइनल में प्रवेश करेंगे।

विवेक के कोच सत्यदेव ने बताया कि अपने पहले प्रयास के अनुसार विवेक ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। 10वें स्थान पर आए हैं इससे उम्मीद बढ़ रही है कि नॉकआउट राउंड क्लियर करके वो सेमीफाइनल में पहुंचेंगे। रैकिंग राउंड में यैलो सेंटर प्वाइंट में 19 और 9 अंक मिलते हैं। विवेक ने 72 में से लगभग 48 से 50 तीर यैलो एरिया में चलाए हैं जो अच्छा है।

गुरुकुल से अपने खेल की शुरुआत करने वाले विवेक आज पैरालिंपक के मैदान का सफर एक पैर के सहारे पूरा कर चुके हैं। सड़क दुर्घटना में अपना एक पैर गंवाने वाले विवेक ने जीत के लिए काफी प्रैक्टिस किया है। साई सेंटर सोनीपत में कड़ी मेहनत की है। आज पूरा परिवार विवेक की जीत के लिए प्रार्थाना कर रहा है। विवेक सहित 30 तीरंदाज आज पैरालिंपिक में खेलने उतरेंगे। विवेक के लिए यह मुकाबला बेहद कड़ा होने वाला है।

MBA करके नौकरी कर रहे थे, एक्सीडेंट ने जिंदगी बदल दी

निशानेबाजी की प्रैक्टिस करते विवेक।
निशानेबाजी की प्रैक्टिस करते विवेक।

विवेक बताते हैं, '2017 से पहले मेरी जिंदगी भी सामान्य थी। MBA करने के बाद मैं महिंद्रा कंपनी में जॉब कर रहा था। पैकेज भी अच्छा था, लेकिन 1 जनवरी 2017 को एक बड़ा सड़क हादसा हुआ। नशे में धुत एक ट्रक ड्राइवर ने मेरी बाइक को टक्कर मार दी। मेरी जान तो बच गई, लेकिन डॉक्टर्स को मेरा एक पैर काटना पड़ गया। एक झटके में मेरी पूरी जिंदगी बदल गई थी। प्रॉस्थेटिक (नकली पैरों) पैर ने शरीर को तो सहारा दिया, लेकिन मेरा मन टूट सा गया। एक साल तक इलाज चला। मम्मी-पापा और पूरा परिवार दुखी रहने लगा। लोग बातें बनाने लगे। मैं खुद को खत्म सा मानने लगा था।'

दोबारा जॉब करने की हिम्मत नहीं हुई, गुरु ने दी नई जिंदगी
विवेक कहते हैं कि मुझे मेरे गुरु ने नई जिंदगी दी। बताते हैं, 'मैं खुद को असहाय मानने लगा था। ऐसे वक्त में मेरे पापा ने मुझसे जॉब करने के लिए पूछा, लेकिन मैंने सोच लिया था कि अब मैं जॉब नहीं करूंगा। मुझे कुछ अलग करना है। लोगों से पहले खुद को जवाब देना है कि मैं बेकार नहीं हूं। पापा मुझे गुरुकुल प्रभात आश्रम ले गए और यहां मुझे नई जिंदगी मिली। मेरे कोच सत्यदेव सर ने मुझे नई पहचान दिलाई और तब हुआ एक नए विवेक का जन्म।'

कोच ने कहा- नॉर्मल प्लेयर की तरह मेहनत करनी होगी

कोच सत्यदेव के साथ विवेक।
कोच सत्यदेव के साथ विवेक।

कोच सत्यदेव ने भी विवेक से जुड़ी इस बात को याद किया। कहते हैं, 'विवेक से पहली मुलाकात में ही मुझे समझ में आ गया था कि मेरे सामने हीनभावना से ग्रस्त एक युवा खड़ा था। एक बिखरी मिट्‌टी थी जिसे आकार देने की चुनौती थी। उसे आर्चरी का A भी नहीं पता था। मैंने शुरुआती महीना केवल बातें करने में गुजार दिया। दूसरे महीने ट्रेनिंग शुरू कराई तो कह दिया आम खिलाड़ी की तरह अभ्यास कराऊंगा। खुद को पैराप्लेयर मत समझना। इसलिए ट्रेनिंग भी सख्त होगी। सोच लो तुम्हारा मुकाबला आंतनु, प्रवीण जैसे सामान्य प्लेयर्स से है। इन्हें बीट करोगे तभी प्लेयर कहलाओगे।'

खड़े नहीं हो पाते थे, फिर भी हर रोज 8 घंटे कड़ी मेहनत करने लगे
सत्यदेव बताते हैं कि विवेक जैसा शिष्य हर गुरु चाहता है। उसे खेल में मानसिक, शारीरिक दोनों परेशानियां आईं। प्रॉस्थेटिक पैर के कारण खड़े होने में दिक्कत थी। उसका बैलेंस नहीं बनता, वो बार-बार गिरता। निशाना नहीं लगना, लक्ष्य भटकना सब परेशानी थी। मगर वो हारा नहीं।

रोजाना 8 घंटे अभ्यास, योग, व्यायाम, डाइटचार्ट मेंटेन करना आसान नहीं था, लेकिन विवेक ने सब किया। वो टोक्यो में बेस्ट करेगा इसकी उम्मीद है। मुश्किलों से लड़कर बहुत कम समय में विवेक ने आर्चरी की दुनिया में बड़ा मुकाम बनाया है जो बड़ी उपलब्धि है। दो साल के अंदर ही विवेक को नई पहचान मिल गई। वह नेशनल और इंटरनेशनल प्रतियोगिताओं में शामिल होने लगे।

विवेक ने हादसे के दो साल के अंदर ही खुद को बदल लिया।
विवेक ने हादसे के दो साल के अंदर ही खुद को बदल लिया।

दो साल में ही इंटरनेशनल लेवल पर बना ली पहचान

  • खेल- रिकर्व ओपन कैटेगरी पैराऑर्चर, साई की टॉप स्कीम में स्पांसर खिलाड़ी
  • 2019 – नीदरलैंड्स में आयोजित विश्व पैरा आर्चरी चैंपियनशिप में पैरालिंपिक खेल 2020 के लिए कोटा हासिल किया
  • 2019 – पैरा एशियाई चैम्पियनशिप, थाईलैंड में गोल्ड मैडल जीता (व्यक्तिगत)
  • 2019 – पैरा एशियाई चैम्पियनशिप, थाईलैंड में कांस्य पदक जीता (टीम)
  • विश्व रैंकिंग - 13
  • दुबई में आयोजित फाज़ा कप में पहला स्थान हासिल किया।
  • थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में एशियन पैरा आर्चरी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक।
खबरें और भी हैं...