पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • Jatland's Chhaprauli Seat Has Been Occupied For 84 Years, Jayant Chaudhary And His Wife Charu Chaudhary Is Also Refusing To Contest In 2022 Uttar Pradesh Assembly Election

रालोद मुखिया जयंत चौधरी चुनाव नहीं लड़ना चाहते:पत्नी चारू भी नहीं लड़ेंगी चुनाव, जाटलैंड की छपरौली सीट पर है पार्टी का 84 साल से कब्जा

मेरठ7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रालोद मुखिया जयंत चौधरी और उनकी पत्नी चारू चौधरी- फाइल फोटो

राष्ट्रीय लोकदल यानी आरएलडी के मुखिया जयंत चौधरी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं। आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी की पत्नी चारू चौधरी भी विधानसभा चुनाव लड़ने से इनकार कर रही हैं। पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा बताया गया है कि जयंत और उनकी पत्नी ने अभी तक चुनाव नहीं लड़ने की बात कही है।

ऐसे में साफ है कि किसान आंदोलन के बाद इस विधानसभा चुनाव में रालोद मुखिया निजी सीट पर अपने खुद के लिए ताकत न लगाकर पार्टी के लिए ताकत लगा रहे हैं। जाटलैंट की छपरौली विधानसभा चौधरी परिवार और आरएलडी की विरासत है। इस विधानसभा पर भी दूसरे उम्मीदवार को टिकट देने की तैयारी है।

सभी सीटों पर ताकत लगाए हैं जयंत
27 दिसंबर 1978 को जन्मे जयंत चौधरी इस समय राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। वह पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह के पुत्र और पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पौत्र हैं। जयंत चौधरी यूपी के मथुरा सीट से सांसद भी रह चुके हैं। साल 2021 में पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित सिंह के निधन के बाद पार्टी की जिम्मेदारी जयंत के कंधों पर आ गई।

किसान आंदोलन में वह किसानों के साथ रहे। 19 सितंबर 2021 को चौधरी अजित सिंह की छपरौली में जब श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई, तो उसमें जयंत चौधरी ने मंच से कहा था- पूरे वेस्ट यूपी को छपरौली बनाना है। जयंत चौधरी ने तभी साफ कर दिया था कि वह इस चुनाव में जितनी सीट पर चुनाव लड़ेंगे, पूरी ताकत से लड़ेंगे।

चारू चौधरी भी चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं।
चारू चौधरी भी चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं।

जयंत चौधरी की पत्नी चारु चौधरी भी चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं। पार्टी नेताओं ने बताया कि जयंत और उनकी पत्नी ने कहा है कि परिवार चुनाव नहीं लड़ेगा। परिवार के लिए पार्टी को आगे बढ़ाना पहली जिम्मेदारी है। रालोद किसानों की पार्टी है। हर कार्यकर्ता की तरह चुनाव में काम किया जाएगा। रालोद इस चुनाव में पिछले 2 दशक की राजनीति में अपने आप को मजबूत स्थिति में होने का दावा कर रही है।

जयंत और उनकी पत्नी चारु प्रचार और पार्टी के लिए पूरी जान लगाए हैं। गुरुवार को आरएलडी ने 19 सीट पर उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की। जयंत और चारू चौधरी के चुनाव लड़ने के बार में पुष्टि होनी अभी बाकी है।

जयंत चौधरी पत्नी चारू चौधरी के साथ जनसभा करते हुए।-फाइल फोटो
जयंत चौधरी पत्नी चारू चौधरी के साथ जनसभा करते हुए।-फाइल फोटो

छपरौली सीट ने चौधरी परिवार को कभी निराश नहीं किया
बागपत जिले की छपरौली विधानसभा सीट आरएलडी का गढ़ है। इस छपरौली सीट ने चौधरी परिवार को कभी निराश नहीं किया। 1937 के चुनाव से लेकर 1977 तक इस सीट पर चौधरी चरण सिंह लगातार विधायक बने। इसी सीट से चुनाव जीतकर चौधरी चरण सिंह ने यूपी के सीएम बनने की कुर्सी हासिल की।

आरएलडी ने इस सीट पर जिसे भी चुनाव में उतारा यहां की जनता ने कभी निराश नहीं किया। इसी जाटलैंड बागपत से चौधरी चरण सिंह तीन बार सांसद और चौधरी अजित सिंह छह बार सांसद रहे।

खबरें और भी हैं...