पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंस्पेक्टर को हटवाने के लिए भाकियू का थाने में धरना:मेरठ में नाली के विवाद को लेकर दो पक्षों में चली गोली, पुलिस ने 3 को जेल भेजा

मेरठ9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परतापुर थाने में धरना देते भाकियू कार्यकर्ता। - Money Bhaskar
परतापुर थाने में धरना देते भाकियू कार्यकर्ता।

परतापुर थाना क्षेत्र के उपलहेड़ा गांव में सोमवार देर रात नाली के विवाद में दो पक्ष आमने सामने आ गए। जिसमें दोनों पक्षों से एक एक व्यक्ति घायल हुआ है। दो घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया है। मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने परतापुर थाने में धरना शुरू कर दिया। भाकियू नेता संजय दौराला का कहना है पुलिस एक तरफा कार्रवाई कर रही है। जिसमें इंस्पेक्टर को को भाजपा का एजेंट बताया। भाकियू नेताओं ने इंस्पेक्टर को भाजपा के दबाव में काम करने का आरोप लगाया है।

यह है पूरा मामला

परतापुर के उल्पहेड़ा गांव में नाली के पानी को लेकर विवाद हुआ। जहां सोमवार रात दो पक्षों में विवाद हो गया। एक पक्ष के राजेंद्र को गोली लगी जबकि उसका दूसरा भाई महिपाल घायल हो गया। वहीं दूसरे पक्ष सुशील भी गोली की चपेट में आकर घायल हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद इंस्पेक्टर परतापुर शैलेंद्र प्रताप सिंह ने पीड़ित राजेंद्र पक्ष की तहरीर पर परविंद्र, संजय, प्रशांत के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। वहीं दूसरे पक्ष की तहरीर पर पुलिस ने मुकामा दर्ज नहीं किया।

इंस्पेक्टर पर एक तरफा कार्रवाई का आरोप
इंस्पेक्टर परतापुर के खिलाफ गुस्साए ग्रामीणों ने भारतीय किसान यूनियन बैनर तले परतापुर थाने पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। आरोप लगाया कि इंस्पेक्टर परतापुर विधानसभा चुनाव को प्रभावित करने के लिए भाजपा के दबाव में एकतरफा कार्रवाई कर रहे हैं। उन्होंने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से करने की भी बात की। वहीं उन्होंने इंस्पेक्टर को थाने से हटाने की थाने पर धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि जब दोनों पक्ष को गोली लगी है तो एक तरफा कार्रवाई क्यों पुलिस ने की है। इंस्पेक्टर को हटाने के लिए नारेबाजी करते हुए हाय हाय, मुर्दाबाद के नारे लगाए।

भाकियू नेताओं ने हाईवे जाम करने की चेतावनी दी
भाकियू नेता संजय दौरालिया का कहना है की परतापुर इंस्पेक्टर किसानों को जेल भेजकर डराने का काम कर रहे हैं। इंस्पेक्टर को पता नहीं है कि यहां सत्ताधारी नेता भी भाकियू से डरते रहे हैं। किसान लाठियां खाने को भी तैयार है। भाकियू नेताओं ने हाईवे जाम करने की चेतावनी दी है। वहीं इंस्पेक्टर परतापुर की कॉल रिसीव नहीं हुई।