पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

10 फोटो में देखिए रामलीला का मंचन:शहर रामलीला में राजा दशरथ के यज्ञ से लेकर ताड़का का वध

मेरठ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिमखाना मैदान में स्थित रामलीला मंचन में राजा दशरथ अपनी तीनों रानियों के साथ

श्री सनातन धर्म रक्षिणी सभा पंजीकृत मेरठ शहर के तत्वाधान में श्री रामलीला कमेटी द्वारा बुढ़ाना गेट स्थित जिमखाना मैदान में रविवार को रामलीला का मंचन किया गया। मुख्य अतिथि राजन सिंघल, रॉयल रबड़ स्टैंप वाले रहे। रामलीला में श्री राम जन्म महोत्सव, बाल लीला, सीता जन्म, ऋषि विश्वामित्र आगमन, ताड़का वध व गंगा लीला का मंचन किया गया।

राजा दशरथ की वृद्धावस्था

रामलीला मंचन में पहुंचे कलाकार
रामलीला मंचन में पहुंचे कलाकार

श्रीराम जन्म महोत्सव लीला करते हुए दर्शाया गया कि राजा दशरथ जी की वृद्धावस्था आने पर भी पुत्र प्राप्ति नहीं होने के कारण पुत्र प्राप्ति हेतु पुत्र कमेष्ठी यज्ञ श्रृंगी ऋषि जी से कराया गया। यज्ञ के चलते अग्नि देवता प्रकट हुए और उन्होंने राजा दशरथ जी को पुत्र प्राप्ति हेतु खीर दी।राजा दशरथ ने यज्ञ के प्रसाद चारु(खीर) को अपने महल में ले जाकर अपनी तीनों रानियों में वितरित कर दिया। प्रसाद ग्रहण करने के परिणाम स्वरूप तीनों रानियों ने गर्भधारण किया।

शिव और पार्वती बने कलाकार
शिव और पार्वती बने कलाकार

जब चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को पुनर्वसु नक्षत्र में सूर्य, मंगल शनि, वृहस्पति तथा शुक्र अपने-अपने उच्च स्थानों में विराजमान थे, कर्क लग्न का उदय होते ही महाराज दशरथ की बड़ी रानी कौशल्या के गर्भ से एक शिशु का जन्म हुआ जो कि नील वर्ण, चुंबकीय आकर्षण वाले, अत्यन्त तेजोमय, परम कान्तिवान तथा अत्यंत सुंदर था। उस शिशु को देखने वाले देखते रह गए।

रामलीला का मंचन देने पहुंचे आमजन
रामलीला का मंचन देने पहुंचे आमजन

ताड़का वध
इसके पश्चात सीता जन्म ऋषि विश्वामित्र आगमन ताड़का वध तथा गंगा लीला का मंचन हुआ गंगा लीला के मंचन में किस प्रकार भगवान शिव की जटाओं से गंगा पृथ्वी लोक पर आई उसका सुंदर मंचन भक्त मंत्रमुग्ध हो कर देखते रहे।

रामलीला मंचन के दौरान ताड़का वध किया गया।
रामलीला मंचन के दौरान ताड़का वध किया गया।

यह रहे मौजूद

इस कार्यक्रम में संस्था अध्यक्ष मनोज गुप्ता राधा गोविंद मंडप, महामंत्री मनोज अग्रवाल खद्दर वाले, कोषाध्यक्ष योगेंद्र अग्रवाल बबलू, पंकज गोयल पार्षद, संयोजक उत्सव शर्मा, अजय गोयल अनन्या, विपुल सिंघल, प्रदीप अग्रवाल, मनोज जिंदल, दीपक गोयल ,संदीप गोयल रेवड़ी, अजीत शर्मा, सचिन गोयल, रंजन सिंघल, राकेश शर्मा, संदीप पाराशर, हर्षित गुप्ता, दीपक सिंघल, अपार मेहरा, अनिल गोल्डी, सुशील गर्ग, सुरेश गोयल ,संजय जी, उमाशंकर, मयूर अग्रवाल रहे।

ऋषि विश्वामित्र से मिलने जाते राजा दशरथ
ऋषि विश्वामित्र से मिलने जाते राजा दशरथ
पुत्र प्राप्ति के लिए राजा दशरथ अपनी तीनों रानियों के साथ। यज्ञ करते राजा विश्वामित्र
पुत्र प्राप्ति के लिए राजा दशरथ अपनी तीनों रानियों के साथ। यज्ञ करते राजा विश्वामित्र
पुतला दहन करते हुए
पुतला दहन करते हुए
अलग अलग भूमिका में मंचन करते कलाकार
अलग अलग भूमिका में मंचन करते कलाकार
ताड़का वध के लिए बाण चलाता कलाकार
ताड़का वध के लिए बाण चलाता कलाकार