पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ओलिंपिक फतह के लिए टोक्यो रवाना हुई प्रियंका गोस्वामी:मेरठ की बेटी से देश को पदक की उम्मीद 20 किमी पैदल वॉक में करेंगी भारत का प्रतिनिधित्व

मेरठएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रियंका ने फ्लाइट से भास्कर को भेजी फर्स्ट सेल्फी, कहा जीत में लगा दूंगी जी जान - Money Bhaskar
प्रियंका ने फ्लाइट से भास्कर को भेजी फर्स्ट सेल्फी, कहा जीत में लगा दूंगी जी जान

ओलिंपिक 2020 में भारत को स्वर्ण पदक दिलाने का ख्वाब लिए मेरठ की बेटी प्रियंका गोस्वामी टोक्यो के लिए रवाना हुई है। प्रियंका गोस्वामी ओलिंपिक में 20 किमी पैदल चाल इवेंट में खेलेंगी। पहली बार भारत से कोई खिलाड़ी पैदल चाल में ओलिंपिक में जा रहा है। प्रियंका गोस्वामी पहली महिला खिलाड़ी हैं जिन्होने देश को यह गौरव दिया है। 6 अगस्त को प्रियंका ओलिंपिक में खेलेंगी।

खिलाड़ियों के साथ बैंग्लुरु से दिल्ली के लिए रवाना हुई एथलीट प्रियंका गोस्वामी
खिलाड़ियों के साथ बैंग्लुरु से दिल्ली के लिए रवाना हुई एथलीट प्रियंका गोस्वामी

फ्लाइट से भेजी पहली सेल्फी, देश का मान बढ़ाने का सपना
प्रियंका ने फ्लाइट में बैठते ही अपनी पहली सेल्फी शेयर की और दैनिक भास्कर को बताया कि जीत की उम्मीद से जा रही हूं, चाहती हूं देश का गौरव बढ़ाऊं। दिनरात एक करके इस ओलिंपिक की तैयारी की है। अब मुकाबले की घड़ी आ रही है इसमें सफल होने का पूरा प्रयास करुंगी। मेरे कोच, शिक्षकों ने मुझे यहां तक पहुंचाने में बहुत मेहनत की है। प्रियंका के कोच गौरव व साथियों ने उनकी फोटो साझा करते हुए लिखा मेरठ का शेर जा रहा है।

बैंग्लुरु से दिल्ली फिर टोक्यो का सफर
प्रियंकाओलिंपिक की तैयारी बैंग्लुरु में रहकर कर रही थी। कोरोना काल से ही प्रियंका बैंग्लुरु में अभ्यास कर रही थीं। वहीं से 10.15 बजे प्रियंका व अन्य खिलाड़ियों का दल फ्लाइट से दिल्ली के लिए रवाना हुआ है। दिल्ली से यह टीम टोक्यो जाएंगी। वहां जाकर अभी खेल पर पूरा फोकस करना है ताकि देश को जीत दिला सकूं।

पीएम ने मन की बात में दी थी शाबाशी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मन की बात में प्रियंका गोस्वामी की तारीफ कर चुके हैं। प्रधानमंत्री ने कहा था कि प्रियंका गोस्वामी वो महिला खिलाड़ी है जिसने पदक का बैग देखकर खेलना शुरू किया। पदक का बैग पाने की लालसा आज प्रियंका को ओलिंपिक तक ले आई है। उन्होंने प्रियंका के खेल व उसके परिवार की भी तारीफ की थी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी संवाद के दौरान प्रियंका को शुभकामनाएं दी थीं।

कैलाश प्रकाश स्टेडियम से की शुरूआत
मूलरूप से मुजफ्फरनगर बुढा़ना क्षेत्र के सागड़ी गांव की रहने वाली प्रियंका गोस्वामी 2006 में मेरठ आई थी। कैलाश प्रकाश स्टेडियम में गौरव त्यागी के अंडर में अभ्यास करते हुए प्रियंका ने आगे बढ़ना शुरू कर दिया। 2011 में प्रदेश स्तरीय एथलेटिक चैंपियनशिप में हिस्सा लिया। पांच किलोमीटर की वॉक में गोल्ड मेडल लेने के साथ ही प्रियंका प्रदेश की बेस्ट एथलीट भी बनी। 2011 में ही प्रियंका ने नेशनल यूथ एथलेटिक चैंपियनशिप में भी पांच किमी वॉक में हिस्सा लेकर रजत पदक जीता। 10 किमी, 20 किमी पैदल चाल में राष्ट्रीय, अंतराष्ट्रीय स्तर के पदक जीते।

प्रियंका गोस्वामी की उपलब्धियां
2011-2013 के दौरान अंडर 18 वर्ग में प्रियंका ने तीन स्वर्ण, तीन रजत, दो कांस्य पदक जीते उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रियंका गोस्वामी को रानी लक्ष्मीबाई अवार्ड के लिए भी चुना। रांची में ओलंपिक कोटा हासिल करने केा बाद प्रियंका गोस्वामी अब टोक्यो ओलंपिक में मेरठ का गौरव बढ़ाएंगी। ओलंपिक में प्रियंका गोस्वामी 20 किमी पैदल में भाग लेंगी

खबरें और भी हैं...