पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घातक हो सकते हैं लू और हीट स्ट्रोक के परिणाम:मधुबन में जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने बताया स्वास्थ्य को कैसे रखें ठीक

मधुबनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मऊ के मधुबन में गर्मी और लू के प्रकोप से लोग परेशान हैं। वह बीमार भी हो रहे हैं। ऐसे में लू, हीट स्ट्रोक, पानी की कमी या डिहाइड्रेशन, बुखार या पेट की बीमारियां बढ़ने की अधिक संभावना रहती हैं। डॉक्टर लोगों को सचेत रहने की सलाह दे रहे हैं। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. बी.के यादव ने बातचीत में कई सारे टिप्स दिए, जिन्हें अपनाकर आप भी अपना बचाव कर सकते हैं।

बाहर निकलने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

उन्होंने ने बताया कि, तेज धूप की वजह से चक्कर आना, उलटी आना, बुखार, डिहाइड्रेशन जैसी समस्या हो सकती है। इससे बचने के लिए जितना हो सके धूप में कम निकलें। यदि निकलना पड़े तो सिर पर गमछा आदि बांधकर ही निकले। ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। अपने साथ हमेशा पानी की बोतल रखें। तरल पदार्थ जैसे नींबू पानी, लस्सी, छाछ या आम रस आदि का सेवन काफी कारगर होता है। इसलिए इनका सेवन बढ़ाएं। ध्यान रहे समय रहते संभला नहीं गया तो लू लगने के परिणाम घातक हो सकते हैं।

खान-पान पर रखें विशेष ध्यान

बताया कि आयुर्वेद भी गर्मी में ठंडी तासीर वाले खाद्य पदार्थ सेवन करने की सलाह देता है। यदि आप ऐसा करते हैं तो आप गर्मियों में चलने वाली गर्म हवाओं से अपनी रक्षा कर सकते हैं। गर्मियों के मौसम में यदि आप ठंडी चीजों का सेवन करते हैं, तो आपके शरीर को ठंडक मिलेगी और तेज तापमान का प्रभाव आपके ऊपर कम होगा।

अन्य लोगों से भी अपील करें कि, गर्मी के मौसम में प्याज, पुदीना, मठ्ठा एवं हरी सब्जियों का सेवन अधिक से अधिक मात्रा में करें। गर्मी के मौसम में अनेक प्रकार की बीमारियां उत्पन्न होती हैं, इसलिए खान-पान पर विशेष ध्यान देकर स्वस्थ रहें।

गर्मी के मौसम में टायफाइड का बुखार अधिक होता है। इसमें लगातार बुखार रहना, भूख कम लगना, उल्टी होना रक्तचाप कम हो जाना और खांसी-जुकाम हो जाता है। इससे बचने के लिए गंदा पानी व फास्ट फूड के सेवन से दूर रहें। कुछ भी खाने-पीने से पहले हाथों को अच्छी तरह से जरूर धोएं।

आगे बताया कि, तरल पदार्थों का सेवन ज्यादा मात्रा में करें और आसपास साफ-सफाई रखें। इस तरह की किसी भी प्रकार की समस्या होने पर नजदीकी अस्पताल पर पहुंचकर जांच कराएं और चिकित्सक की सलाह के हिसाब से दवाएं लें। सीएचसी-पीएचसी और सरकारी अस्पतालों पर नि:शुल्क दवाएं उपलब्ध हैं।

खबरें और भी हैं...