पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Mathura
  • The Miscreants Robbed The Center Full Of Mobile Phones Of Oppo Company Going From Noida To Bangalore, Mathura Police Started Investigation By Registering A Report

मथुरा में लूटे 8 करोड़ के मोबाइल फोन:ग्रेटर नोएडा से बेंगलुरू भेजे गए थे, बदमाशों ने कैंटर ड्राइवर को MP में फेंका

मथुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोबाइल लूट की जांच करने मौके पर पहुंची पुलिस की टीम। - Money Bhaskar
मोबाइल लूट की जांच करने मौके पर पहुंची पुलिस की टीम।

मथुरा के थाना फरह क्षेत्र में 8 करोड़ के मोबाइल फोन लूटने का मामला सामने आया है। लूट को अंजाम देने के लिए दो बदमाशों ने मोबाइल फोन लेकर जा रहे कैंटर में लिफ्ट ली। कैंटर के ड्राइवर को झांसी के पास बबीना ले गए। वहां उसे गाड़ी से फेंक दिया। उसके बाद मोबाइल लूटकर भाग गए। जब ड्राइवर को होश आया तो उसने अपने आपको मध्य प्रदेश में पाया।

घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस में खलबली मच गई। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

ग्रेटर नोएडा से बेंगलुरू भेजे गए थे फोन
5 अक्टूबर को ग्रेटर नोएडा के कासना इलाके में स्थित ओप्पो कंपनी की फैक्ट्री से एक कैंटर बेंगलुरू के लिए निकला था। ड्राइवर मनीष यादव ने कंपनी में बताया कि वह यमुना एक्सप्रेस वे के नजदीक एचपी पेट्रोल पम्प से डीजल लेकर मथुरा से आगरा होते हुए निकलेगा, लेकिन फरह टोल निकलते ही रैपुराजाट पुल पर खड़े दो व्यक्तियों ने उससे लिफ्ट मांगी। जिसके बाद मनीष ने उन्हें लिफ्ट दे दी।

शिपमेंट में थे 8990 मोबाइल ओप्पो कंपनी ने मोबाइल फोन की शिपमेंट ले जाने के लिए युआनताई इंटरनेशनल सप्लाई चैन को ऑर्डर दिया था। युआनताई इंटरनेशनल सप्लाई चैन ने यह ऑर्डर गुड़गांव की ट्रांसपोर्ट कंपनी दिशिका लॉजिस्टिक सर्विस को ट्रांसफर कर दिया। जिसके बाद ड्राइवर मनीष यादव ओप्पो कंपनी से 8990 मोबाइल फोन लेकर बेंगलुरू के लिए चला। शिपमेंट को लेकर जब मनीष मथुरा के थाना फरह क्षेत्र के रैपुराजाट ग्वालियर बायपास पुल पर पहुंचा तभी वहां मौजूद लोगों ने मनीष से लिफ्ट मांगी और उसमें सवार हो गए।

मध्यप्रदेश में ड्राइवर को फेंक कर फरार हुए बदमाश
कैंटर के चालक मनीष ने बताया कि जिन दो लोगों ने लिफ्ट मांगी थी। उनको जब झांसी के पास बबीना टोल के पास उतारने के लिए कैंटर रोका तो एक व्यक्ति और कैंटर के अंदर जबर्दस्ती आ गया और चालक मनीष का चेहरा ढंककर उसे बंधक बना लिया। इसी बीच किसी बदमाश ने उसके सिर पर हमला भी किया। 2 से 3 दिनों तक बेहोश रखने के बाद 8 अक्टूबर की सुबह 5 बजे होश आया और अपने आपको श्योपुर मध्य प्रदेश में एक चाय की दुकान पर पाया। इसके बाद ड्राइवर ने कैंटर लूट और अपने साथ हुई घटना की जानकारी ट्रांसपोर्ट कंपनी और ओप्पो कंपनी को दी।

युआनताई इंटरनेशनल सप्लाई चैन कंपनी ने मथुरा में कराई रिपोर्ट दर्ज
करीब 8 करोड़ के मोबाइल फोन से भरे कैंटर के लूटे जाने की सूचना युआनताई इंटरनेशनल सप्लाई चैन कंपनी ने झांसी पुलिस को दी। हालांकि, युआनताई इंटरनेशनल सप्लाई चैन कंपनी के प्रबंधक सचिन मानवकि की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर के अनुसार झांसी के डीआईजी ने रिपोर्ट मथुरा में ही दर्ज कराने की बात कही। इसके बाद थाना फरह में 14 अक्टूबर को अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराया गया।

जांच में जुटी पुलिस

एसएसपी गौरव ग्रोवर के पीआरओ ने बताया कि इस मामले में केस दर्ज कर लिया है। मामले की जांच कर जल्द खुलासा किया जाएगा।