पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %

अंतराष्ट्रीय बालिका दिवस:आजादी के अमृत महोत्सव के तहत मनाया गया अंतराष्ट्रीय बालिका दिवस, न्यायिक अधिकारियों ने बालिकाओं को बताए उनके अधिकार

मथुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम में शामिल होने आए न्यायिक अधिकारियों ने बालिकाओं को उनके अधिकार बताते हुए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के बारे में बताते हुए उनका समयानुसार उपयोग करने के टिप्स दिए - Money Bhaskar
कार्यक्रम में शामिल होने आए न्यायिक अधिकारियों ने बालिकाओं को उनके अधिकार बताते हुए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के बारे में बताते हुए उनका समयानुसार उपयोग करने के टिप्स दिए

सोमवार को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर वृंदावन के हनुमान प्रसाद धानुका सरस्वती बालिका विद्यालय में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में शामिल होने आए न्यायिक अधिकारियों ने बालिकाओं को उनके अधिकार बताते हुए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के बारे में बताते हुए उनका समयानुसार उपयोग करने के टिप्स दिए।

मां सरस्वती के चित्र पर दीप प्रज्वलन कर हुआ कार्यक्रम का शुभारंभ

कार्यक्रम में शामिल होने आए न्यायिक अधिकारियों का विद्यालय की बालिकाओं ने सबसे पहले घोष ( बैंड) ध्वनि से स्वागत किया। इसके बाद कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती, मां भारती एवं ॐ के चित्रपट पर पुष्पार्चन व दीप प्रज्वलन कर किया गया। विद्यालय प्रबंध तंत्र ने आगन्तुक न्यायिक अधिकारियों के स्वागत के उपरांत बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये।

बेटियों की बदल रही सोच

कार्यक्रम में मौजूद अपर जिला जज हरविंदर सिंह, अपर जिला जज व नोडल अधिकारी देवी कांत शुक्ला,मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राकेश सिंह, विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सोनिका वर्मा , सिटी मजिस्ट्रेट जवाहर लाल श्रीवास्तव, जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ राजेन्द्र सिंह, क्षेत्राधिकारी सदर राम मोहन शर्मा ने बालिकाओं का उत्साहवर्धन करते हुए महिला सशक्तिकरण व मिशन शक्ति से जुड़े अधिकारों से रूबरू कराया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव सोनिका वर्मा ने बताया कि भारतीय संविधान ने महिला व पुरूष दोनों को समान अधिकार दिये हैं।इसीलिए महिलाओं को यह सोच अपने दिमाग से निकालनी होगी कि वह कमजोर है। हालांकि अब बेटियों की सोच काफी हद तक बदली है लेकिन यह अपर्याप्त है। ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से हम बच्चियों में जनजागृति पैदा करे। उन्हें भारतीय संविधान द्वारा प्रदत्त कानूनों की बारीकियों से अवगत कराये ताकि वह जरूरत पड़ने पर इनका सदुपयोग कर सके। विद्यालय की प्रधानाचार्या डाक्टर अंजू सूद ने सभी आगन्तुक अथितियों का आभार व्यक्त किया।

खबरें और भी हैं...