पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Mathura
  • If The Road Full Of Potholes Was Not Built, Then The Ramlila Institute Itself Got The Road Built, The Officials Of The Institute Said Enough That The Municipality President Requested

मथुरा में कोसी नगर पालिका की बेरुखी:रामलीला संस्थान ने बनवाई सड़क, पदाधिकारी बोले- चेयरमैन ने नहीं सुनी बात

मथुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्राचीन परम्परा को निभाने की ठसक ने सरकारी कार्यप्रणाली को अनूठे ढंग से आईना दिखाने का काम किया है - Money Bhaskar
प्राचीन परम्परा को निभाने की ठसक ने सरकारी कार्यप्रणाली को अनूठे ढंग से आईना दिखाने का काम किया है

मथुरा के कोसी कस्बे में नगर पालिका का गैर जिम्मेदाराना रवैया सामने आया है। यहां नगर पालिका ने रामलीला में नवरात्रों के अंतिम दिन निकलने वाली काली सवारी से पूर्व गड्डों से भरी सड़क का निर्माण नहीं कराया। नगर पालिका के इस रुख को देखने के बाद रामलीला संस्थान ने काली मेला से पूर्व ही रातों रात सड़क का निर्माण करा दिया।

500 मीटर का कराया सड़क निर्माण

प्राचीन परम्परा को निभाने की ठसक ने सरकारी कार्यप्रणाली को अनूठे ढंग से आईना दिखाने का काम किया है। मामला जनपद की कोसीकलां नगरपालिका प्रशासन से जुड़ा हुआ है। जहां सैकड़ो साल पुरानी परम्परा को निभाने के लिये रामलीला कमेटी ने खुद के खर्चे से पांच सौ मीटर लम्बी सड़क का निर्माण ही रातों रात करा डाला। जबकि नगरपालिका प्रशासन उक्त मार्ग के निर्माण में महीनों से हीला हवाली कर रहा था।

दुर्गा नवमी को निकलती है माँ काली की सवारी

कोसीकलां नगर में शारदीय नवरात्रि पर्व पर होने वाली रामलीला के अंतर्गत नवमी तिथि पर मां काली की भव्य शोभायात्रा निकाली जाती है। काली यात्रा की यह परम्परा 202 साल पुरानी है। रामलीला के दौरान निकलने वाली इस शोभायात्रा में मां काली का स्वरूप पैदल ही नगर की सड़कों पर निकलता है। जिसकी वजह से सड़कों को दुरुस्त रखा जाता है। लेकिन नगर पालिका काली मंदिर से घण्टा घर तक जर्जर सड़क को सही नहीं करा सकी। जिसके बाद रामलीला संस्थान ने ही इसे बनवाने का निर्णय लिया।

चार फीट का मुखौटा धारण करती हैं मां काली

रामलीला संस्थान के द्वारा आयोजित काली मेला में मां काली का स्वरूप 4 फ़ीट का मुखौटा धारण करते हैं। 15 से 20 किलोग्राम भारी मुखौटे को धारण कर मां काली का स्वरूप 50 किलो वजन के आभूषण और वस्त्र धारण करते हैं। लांगुरिया के साथ निकलने वाली काली मां की सवारी सड़कों पर रात भर खेलती हैं और सुबह 4 बजे अहिरावण वध लीला का मंचन किया जाता है।

नगर पालिका अध्यक्ष बोले सीमेंटेड सड़क बनाएगी पालिका

रामलीला संस्थान द्वारा सड़क बनाये जाने के मामले में जब नगर पालिका अध्यक्ष नरेंद्र गुर्जर से जानकारी की तो उन्होंने बताया कि 28 सितम्बर को मेला होने की जानकारी हुई जिसके बाद 2 या 3 अकटुबर को रामलीला संस्थान के लोग मिले। सरकारी काम में समय लगता है यह सभी जानते हैं। लेकिन जिसने यह काम किया बहुत अच्छा काम किया है। हम बहुत जल्द सीमेंटेड बनाएगे ।

खबरें और भी हैं...