पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX56747.14-1.65 %
  • NIFTY16912.25-1.65 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476900.69 %
  • SILVER(MCX 1 KG)607550.12 %

ब्रज के विकास को संकल्पित उत्तरप्रदेश सरकार:साढ़े चार साल में हुए विकास कार्यों की ऊर्जा मंत्री ने दी जानकारी,ब्रज में पर्यटकों को मिलें विश्व स्तरीय सुविधा

मथुरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ब्रज में साढ़े 4 साल के दौरान कराये गए विकास कार्यों की जानकारी देते ऊर्जा मंत्री और मथुरा वृन्दावन से विधायक श्री कांत शर्मा - Money Bhaskar
ब्रज में साढ़े 4 साल के दौरान कराये गए विकास कार्यों की जानकारी देते ऊर्जा मंत्री और मथुरा वृन्दावन से विधायक श्री कांत शर्मा

ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री पं. श्री कांत शर्मा ने सोमवार को अपने विधानसभा क्षेत्र मथुरा-वृंदावन में विगत साढ़े चार साल में कराए गए विकास कार्यों को जनता के बीच रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार को ब्रज के विकास के लिए संकल्पित बताया । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के नेतृत्व में मथुरा-वृंदावन का विकास हो रहा है। भाजपा सरकार ने मथुरा-वृंदावन के पुराने गौरव को लौटाने के लिए सभी प्रमुख योजनाओं में इस क्षेत्र को रखा है। कृष्ण जन्मोत्सव शुरू कर इसकी वैश्वेविक पहचान को बढ़ाने के साथ ही जन्मभूमि क्षेत्र के 10 किमी की परिधि के दायरे को तीर्थ स्थल घोषित कर अपने संकल्प को पूरा किया है। अयोध्या की ही तर्ज पर आज कान्हा की नगरी भी सज और संवर रही है।

190 एकड़ कुम्भ मेला क्षेत्र का किया जा रहा संरक्षण

ऊर्जा मंत्री ने बताया कि वृंदावन में अब तक के सबसे दिव्य व भव्य कुम्भ का आयोजन 16 फरवरी 2021 से 41 दिन तक किया गया। अब कुम्भ क्षेत्र के 190 एकड़ स्थान को अतिक्रमण मुक्त कर भविष्य के लिए संरक्षित किया जा रहा है। पिछले चार वर्षों से लगातार मथुरा में दिव्य और भव्य कृष्ण जन्मोत्सव और होली के भव्य आयोजन से इसकी वैश्वेविक और धार्मिक पहचान और मजबूत हुई है। यह राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों के लिए सुलभ हुई है। ब्रज तीर्थ क्षेत्र विकास परिषद का गठन कर सरकार ने मथुरा-वृंदावन ही नहीं पूरे 84 कोस परिक्रमा मार्ग के बीच पड़ने वाली सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व की धरोहरों का सौंदर्यीकरण किया गया है। केंद्र सरकार की हृदय योजना का लाभ भी मथुरा-वृंदावन विधानसभा क्षेत्र को मिला है। उन्होंने कहा कि 38 करोड़ रुपये की लागत से प्रो पुअर पर्यटन योजना के तहत श्री बांके बिहारी मंदिर की 22 कुंज गलियों व श्री कृष्ण जन्मस्थान के मार्गों का विकास हुआ है। अब योजना में श्री ठाकुर बांके बिहारी जी मंदिर की 23 अन्य कुंज गलियां भी शामिल की गई हैं। जिससे 45 कुंज गलियों का विकास हो रहा है। 23.5 करोड़ रूपये की लागत से श्री कृष्ण जन्मभूमि में रास लीला मंच, कृष्ण लीला के डिजिटल मंचन, पार्क के सौंदर्यीकरण, प्रमुख मार्ग का निर्माण हो रहा है।

खारे पानी की समस्या से निजात के लिए डाली जा रही 176 किलोमीटर पाइप लाइन

श्री कांत शर्मा ने बताया कि खारे पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए पहली बार शहरवासियों को पीने के लिए गंगा जल उपलब्ध कराया गया है।दिसम्बर 2019 से 25 एमएलडी पानी रोज मिल रहा है। मथुरा-वृन्दावन निगम क्षेत्र में लगभग 1.25 लाख परिवार हैं। करीब 70 हजार परिवारों को गंगाजल मिल रहा है, शेष को ट्यूबवेल व हैंडपम्प के जरिये जलापूर्ति हो रही है। शहर में 93 अन्य नलकूप तैयार हो रहे हैं व पाइप लाइन भी बिछाई जा रही हैं।सभी घरों को नल से जोड़ने के कार्य में वर्ष 2021 के अंत तक 176 किलोमीटर की पाइप लाइन पहले फेज में डल रही है। जिसके 85 किलोमीटर का काम पूरा हो गया है। साथ ही यमुना शुद्धिकरण के लिए इसमें गिरने वाले 35 गंदे नालों की टैपिंग की जा रही है। नालों की टैपिंग, मसानी एसटीपी और ट्रांस यमुना टीटीआरओ प्लांट की 460 करोड़ की लागत से क्षमता बढ़ाकर 79.3 एमएलडी की जा रही है। एसटीपी क्षमता वृद्धि का काम 31 अक्टूबर तक पूरा हो जाएगा। यमुना शुद्धिकरण की दिशा में 3 करोड़ 35 लाख की लागत से मोक्ष धाम भी बनकर तैयार हो गया है। साधु समाधि और गौ समाधि के लिए भी 21 एकड़ जमीन संरक्षित कर फेंसिंग की गई है। नालों की टैपिंग पूरी होने पर यमुना रिवर फ्रंट का कार्य भी होगा।

बिजली आपूर्ति सुधर व्यवस्था में खर्च किये 1165 करोड़

ऊर्जा मंत्री श्री कांत शर्मा ने बताया कि बिजली आपूर्ति व्यवस्था में सुधार के लिए 1165 करोड़ रुपये के बिजली के काम जनपद में किये गए हैं। जिले में 1 लाख 38 हजार घरों को बिजली कनेक्शन, 13 नये सब स्टेशन, 32 की क्षमता वृद्धि, 14320 नये ट्रांसफार्मर लगाने के साथ ही 236 किलोमीटर की अंडरग्राउंड केबलिंग की गई है। मथुरा को आपूर्ति के मामले में वीआईपी स्टेटस भाजपा की सरकार में मिला है। इससे पहले त्योहारों में ही बड़ी मुश्किल से बेहतर आपूर्ति सुनिश्चित हो पाती थी। इसके अलावा अवैध कब्जे के शिकार रहे जवाहर बाग का 16 करोड़ की लागत से सौदर्यीकरण कराया। 103 एकड़ में फैला पार्क अब जाॅगिंग ट्रैक, मेडिटेशन एरिया, सूर्य नमस्कार पाॅइंट, नक्षत्र वाटिका, नवग्रह वाटिका और पंच वाटिका से सुसज्जित है। इसमें 1.5 किमी का जाॅगिंग ट्रैक है। बच्चों के लिये स्केटिंग एरिया है। ओपन जिम और झूले भी हैं। ओपन थिएटर व कैफेटिया होने से यहाँ सांस्कृतिक आयोजन व छोटे निजी कार्यक्रम भी हो सकते हैं। शहर में 150 अन्य छोटे-बड़े पार्कों को भी विकसित किया जा रहा है।

राज्यस्तरीय व राष्ट्रीय खेल आयोजनों के लिए भी मथुरा हो रहा तैयार

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी के आवाहन पर स्वच्छता को लेकर चले व्यापक अभियान का असर दिख रहा है। 1 से 10 लाख आबादी वाले शहरों में मथुरा वृन्दावन निगम क्षेत्र की रैंकिंग 2018 के 428 से बढ़कर 2020 में 39 वीं हो गई है। वृन्दावन में 2.13 करोड़ रुपये की लागत से ऑर्गेनिक वेस्ट से खाद बनाने के विकेंद्रीकृत कंपोस्ट प्लांट और प्लास्टिक कचरे को रिसाइकल करने के एमआरएफ प्लांट शुरू किया गया है। उन्होंने बताया कि शहर के प्रमुख बाजारों को जाम से निजात दिलाने के लिए 20 करोड़ रूपये की लागत से जुबली पार्क एरिया में मल्टी लेवल पार्किंग, ओपन थिएटर का निर्माण हुआ है। यह 325 वाहनों की पार्किंग, 250 स्ट्रीट वेंडर्स, 2000 लोगों के ओपन थिएटर में बैठने की सुविधा से युक्त है। प्राथमिक स्कूल में बच्चों को शुद्ध पेयजल व बीमारियों से बचाव के लिए विधायक निधि से आरओ प्लांट लगाए गए हैं। स्कूलों को बेंच भी दी गई हैं, बाउंडरी बनवाई गई है। 122 आरओ प्लांट से 172 स्कूल, स्टेडियम, कॉलेज, कन्या इंटर कॉलेज, कार्यालयों को लाभ मिल रहा है।राज्यस्तरीय व राष्ट्रीय खेल आयोजनों के लिए भी मथुरा तैयार हो रहा है। मथुरा के स्व. मोहन पहलवान स्पोर्ट्स स्टेडियम, गणेशरा में 89.54 लाख रुपये की विश्वस्तरीय खेल सुविधाओं पर काम चल रहा है, दिसंबर 2021 तक हो जाएगा पूरा। टेनिस कोर्ट, 400 मीटर रनिंग ट्रैक, फुटबॉल, बैडमिंटन, जैवलिन थ्रो, रेसलिंग स्वीमिंग पुल के खिलाड़ियों के लिए होंगे इंतजाम। के आर डिग्री कॉलेज में भी 15 लाख रुपये के खेल सुविधाओं पर कार्य हुए। स्कूलों में हॉकी टर्फ भी तैयार होगा।

बिना भेदभाव के किया जा रहे विकास कार्य

कोरोना से निपटने के लिए 2.40 करोड़ रूपये की विधायक निधि जिला अस्पताल में उपकरण व सुविधाओं के विकास के लिए दी गई। इससे 1.5 टन के ऑक्सिजन का प्लांट, वेंटिलेटर बेड, एक्सरे मशीन व अन्य संसाधन उपलब्ध कराए गए हैं। ऑक्सिजन की पीक मांग से 1.5 गुना आपूर्ति क्षमता के साथ मथुरा जनपद अब इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो गया है। इसके अतिरिक्त आयुष्मान योजना, वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन, प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय, उज्ज्वला योजना, किसान सम्मान निधि का लाभ भी सबका साथ- सबका विकास, सबका विश्वास-सबका प्रयास की तर्ज पर बिना भेदभाव के दिलाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...