पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अपात्र किसानों की सम्मान निधि की शुरू हुई वसूली:28 लाख से ज्यादा रुपए लौटा चुके अपात्र, ई-केवाईसी में खुली पोल

मैनपुरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मैनपुरी में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ अपात्रों ने भी ले लिया है। जिले में 2 हजार 722 संपन्न किसान 2 हजार 212 भूमिहीन किसानों ने योजना का लाभ उठाया। ई केवाईसी के बाद मामले में गड़बड़ियां पकड़ में आई है। जिले में तमाम आयकरदाता और सरकारी कर्मचारी,व्यवसायी आदि योजना का लेकर किसान बन गए थे। ई केवाईसी में गड़बड़ियां पकड़ में आयी तो कृषि विभाग द्वारा ऐसे अपात्र लोगों को नोटिस भेजे गए। कुछ लोगों ने सम्मान निधि वापस भी कर दी तो कई से वसूली राशि की प्रक्रिया तेज कर दी गई है।

जिलो में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 1 साल में किसानों को 2- 2 हजार की तीन किस्तों के रूप में हर चौथे महीने पात्र लाभार्थी के खाते में भेजी जाती है। इस समय मैनपुरी में 3,12,458 किसानों को योजना का लाभ मिल रहा है। कृषि विभाग के अनुसार ई-केवाईसी के बाद 2722 किसान अपात्र पाए गए। जिसने किसानों ने घोषणा पत्र देकर आजीविका चलाने के लिए किसान बताया था। ऐसे में की केवाईसी के बाद मिली गड़बड़ियों में अपात्र किसानों में हड़कंप की स्थिति है।

28 लाख से ज्यादा हो चुकी वसूली
जिले में किसान सम्मान निधि पाने के लिए बने अपात्र किसानों से वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अब तक 323 ऐसे अपात्र किसानों से 28 लाख रुपए से ज्यादा की वसूली की जा चुकी है। हालांकि लगभग 6 हजार अपात्र किसानों से वसूली को लेकर विभाग को दिक्कतें आ रही हैं।

ई केवाईसी के बाद 3.12 लाख किसानों को मिली किस्त
जिले में 3.59 लाख किसानों को सम्मान निधि का लाभ मिल रहा है। जिसमें 3,12,458 किसानों के खातों में 11वी सम्मान निधि की किस्त पहुंची है। अभी तक जारी धनराशि में लगभग जिले को 62.49 करोड़ रुपये आये थे।1370 डाटा मिस मैच किसान सम्मान निधि अभी जिले में लगभग 3800 सौ से अधिक किसानों को नहीं मिली। ऐसे में अभी 1370 इनवेलिड आधार डाटा सत्यापन वाले हैं। जिन का सत्यापन होना है। जबकि 2350 किसान मिस मैच वाले हैं।

2.2 लाख किसानों की हो पाई है ई केवाईसी
जिले में अब तक लगभग 82 प्रतिशत किसानों में 2.2 लाख किसानों की ई केवाईसी हो चुकी है। कृषि अधिकारी दुर्विजय सिंह ने बताया अभी जो आयकरदाता छंटे हैं उनको नोटिश भेजे जा रहे हैं। अभी तक 28 लाख से ज्यादा की वसूली हो चुकी है। अपात्र किसानों से संपर्क किया जा रहा है। वसूली हो रही है। जिनके खातों में यह केवल ग्यारहवीं ही किस्त आयी है। इससे पहले की किस्त जिन अपात्र खातों में गयी है उनसे भी वसूली की जाएगी।