पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मैनपुरी में चकबंदी अधिकारी निलंबित:सीएम योगी के ट्वीट से दी गई जानकारी, कर्मचारी की पत्नी ने लगाया था यौन शौषण का आरोप

मैनपुरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मैनपुरी के बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी लालता प्रसाद अहिरवार को निलंबित कर दिया गया है। सीएम योगी के कार्यालय की ओर से ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई। अधिकारी को निलंबित करते हुए उसके खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके साथ ही बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी लालता प्रसाद अहिरवार के खिलाफ कोतवाली में एक महिला की तहरीर पर यौन शोषण की रिपोर्ट दर्ज है। जिसमें अधिकारी को गिरफ्तार करने के लिए वारंट भी जारी हो गया था।

कोर्ट से वारंट मिलने के बाद से यौन शौषण का आरोपी चकबंदी अधिकारी फरार है। पुलिस आरोपी अधिकारी की तलाश कर रही है। हालाकि, अभी तक पुलिस को गिरफ्तारी में सफलता नहीं मिली है। चकबंदी अधिकारी के कार्यालय में तैनात फोर्थ क्लास कर्मचारी की पत्नी ने अधिकारी के ऊपर धमका कर दबाव बनाकर 3 साल तक यौन शोषण करने का आरोप लगाया था। जिस मामले पर एसपी कमलेश दीक्षित के आदेश पर कोतवाली में चकबंदी अधिकारी पर मुकदमा दर्ज हुआ था।

महिला ने लगाया था यौन शौषण का आरोप
15 दिन पूर्व चकबंदी अधिकारी का शिकायतकर्ता महिला के साथ अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। अधिकारी और महिला आपत्तिजनक स्थिति में कमरे में बेड पर नजर आ रहे थे। वायरल वीडियो होने के बाद हड़कंप मच गया था। हालांकि वायरल वीडियो और महिला की शिकायत को चकबंदी अधिकारी ने एक षड्यंत्र बताया था।

सीएम के ट्विटर पेज पर मिली जानकारी
मामला अधिकारियों से जुड़ा होने के कारण मामले की जांच करा प्रशासन ने शासन को जांच रिपोर्ट भेजी थी। जांच की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चकबंदी अधिकारी लालता प्रसाद अहिरवार को निलंबित कर ट्विटर पेज पर उनके निलंबन होंगे की जानकारी साझा की।