पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12वीं पास हूं, इंजीनियर बनना चाहता हूं:जल्दी नौकरी पाने के लिए JEE एडवांस्ड परीक्षा सबसे अच्छा ऑप्शन, इंजीनियरिंग के UG कोर्स युवाओं की पहली पसंद

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी बोर्ड ने 12वीं का रिजल्ट घोषित कर दिया है। ऑल इंडिया कौंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन यानी AICTE के मुताबिक, हर साल भारत में औसतन 15 लाख छात्र इंजीनियरिंग लाइन में कैरियर बनाने के लिए आगे की पढ़ाई करते हैं। 12वीं के बाद इंजीनियर बनने के लिए स्टूडेंट्स के पास JEE एडवांस्ड परीक्षा, बीटेक डिग्री कोर्स और पॉलिटेक्निक कोर्स जैसे विकल्प हैं।

आइए इंजीनियरिंग लाइन के बेस्ट ऑप्शन जानते हैं…

इंजीनियरिंग करने वालों के लिए 18 ऑप्शन
12वीं के बाद इंजीनियर बनने के लिए आप मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग, पैकेजिंग टेक्नोलॉजी, इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग, अप्लाइड इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंस्ट्रूमेंटेशन, कम्प्यूटर इंजीनियरिंग, इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, माइनिंग इंजीनियरिंग, मेटलॉर्जिकल इंजीनियरिंग, टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी, केमिकल इंजीनियरिंग, केमिकल इंजीनियरिंग इन प्लास्टिक एंड पॉलिमर्स, पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग, एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस इंजीनियरिंग, ऑफिस मैनेजमेंट एंड कम्प्यूटर ऐप्लिकेशन, कम्प्यूटर साइंस जैसे कोर्स कर सकते हैं।

इंजीनियर बनने के लिए नेशनल, स्टेट और यूनिवर्सिटी लेवल होती हैं परीक्षाएं
12वीं के बाद इंजीनियरिंग में एडमिशन लेने के लिए नेशनल, स्टेट और यूनिवर्सिटी लेवल पर एंट्रेंस एग्जाम होते हैं। इनमें ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम – मेन यानी JEE Main, ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम, JEE एडवांस्ड,उत्तर प्रदेश राज्य एंट्रेंस एग्जाम, वीआईटी इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम, महाराष्ट्र कॉमन एंट्रेंस टेस्ट और बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस एडमिशन टेस्ट जैसी परीक्षाएं होती हैं।

सबसे अहम है कॉलेज का सिलेक्शन
इन परीक्षाओं को क्लियर करने के बाद स्टूडेंट्स के लिए सबसे जरूरी होता है कॉलेज का सिलेक्शन। देश का सबसे बड़ा इंजीनियरिंग प्लेटफॉर्म IIT को माना जाता है। लेकिन रैंक के हिसाब से स्टूडेंट्स को कॉलेजों में प्रवेश मिलता है। आइए ग्राफिक के जरिए कुछ बड़े संस्थानों के नाम जानते हैं…

JEE एडवांस्ड परीक्षा है इंजीनियर बनने का सबसे शॉर्टकट तरीका
मैथ से 12वीं पास करने के बाद आप तुरंत ही JEE एडवांस्ड परीक्षा में भाग ले सकते हैं। अगर आप इस एग्जाम को क्लियर कर लेते हैं तो आपको सीधे IIT में दाखिला मिला जाएगा। JEE एडवांस्ड परीक्षा में बैठने के लिए 12वीं में PCM सबजेक्ट के साथ 75% स्कोर करना जरूरी है।

इस साल JEE एडवांस्ड परीक्षा 28 अगस्त को होगी यानी इस साल पास हुए छात्रों के पास भी IIT इंजीनियर बनने का मौका है। परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन 7 से 11 अगस्त के बीच होगा। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए कैंडिडेट्स jeeadv.ac.in वेबसाइट पर जाएं। JEE एडवांस्ड परीक्षा की रजिस्ट्रेशन फीस 2800 रुपए है।

कम नंबर मिले तो पॉलिटेक्निक से करिए इंजीनियरिंग का डिप्लोमा

लखनऊ पॉलिटेक्निक में सिविल, मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए अप्लाई किया जा सकता है।
लखनऊ पॉलिटेक्निक में सिविल, मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए अप्लाई किया जा सकता है।

12वीं के बाद इंजीनियरिंग कोर्स में अप्लाई करने वाले स्टूडेंट्स के लिए पॉलिटेक्निक अच्छा ऑप्शन है। यूपी पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा हर साल होती है, इसे पास करने के बाद सरकारी और प्राइवेट पॉलिटेक्निक संस्थानों में इंजीनियरिंग में 3 साल का डिप्लोमा कोर्स करने का मौका मिलता है। पॉलिटेक्निक कोर्स करने के बाद लेटरल एंट्री के रास्ते आप बीटेक की डिग्री 2 साल में हासिल कर सकते हैं। डिप्लोमा कोर्स करने के लिए बोर्ड परीक्षा में 35% नंबर लाना जरूरी है।

आप बीटेक उसी विषय से कर सकते हैं, जो आपने पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स में चुना था। बस ध्यान देने वाली बात यह है कि बीटेक या बीई कोर्स करने के लिए पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स में 60% अंकों से पास होना जरूरी है।

आइए अब इंजीनियरिंग की 4 सबसे बड़ी स्ट्रीम्स और उनमें अप्लाई करने की योग्यता के बारे में जान लेते हैं…

सिविल इंजीनियरिंग: लोगों का जीवन आसार करना ही सिविल इंजीनियरिंग है। रहने के लिए घर, यातायात के लिए सड़क, हवाई अड्‌डा, बंदरगाह, रेलवे। बाढ़ से बचने और सिंचाई के लिए डेम बनाने का काम सिविल इंजीनियर करते हैं।

योग्यता: सिविल इंजीनियरिंग करने के लिए आपके पास 2 ऑप्शन हैं। पहला- 2 साल का डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग। दूसरा- 4 साल का फुल टाइम बीटेक सिविल इंजीनियरिंग कोर्स। इसके लिए आपको 12वीं साइंस स्ट्रीम में 45% नंबरों से पास होना जरूरी है।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग: ऑटोमोबाइल, एविएशन, एनर्जी, कंस्ट्रक्शन, ऑयल एंड गैस जैसी फील्ड में भी मैकेनिकल इंजीनियरों की जरूरत होती है। कमाई के लिहाज से भी यह छात्रों के लिए करियर बनाने का बेहतर ऑप्शन है। हालांकि, इंजीनियरिंग की दूसरी स्ट्रीम्स की तुलना में मैकेनिकल इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश मिलना मुश्किल है,क्योंकि बड़े संस्थानों में हर सीट के लिए 100 से ज्यादा कैंडिडेट रजिस्टर्ड होते हैं।

योग्यता: फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ के साथ 12वीं करने वाले छात्र मैकेनिकल इंजीनियरिंग के अंडर ग्रेजुएट यानी UG कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं। इसमें IIT में जेईई के जरिए दाखिला मिलता है, जिसके लिए हर साल 10 से 12 लाख छात्र आवेदन करते हैं। IIT से मैकेनिकल इंजीनियरिंग करना हर इंजीनियर का सपना होता है, इसलिए इसकी सीट जल्दी भर जाती है। मैकेनिकल इंजीनियरिंग में UG कोर्स करने के लिए 12वीं में PCM के साथ 60% स्कोर जरूरी है।

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग: इलेक्ट्रिकल मशीनरी, पॉवर प्लांट्स, रेलवे, सिविल एविएशन, टेलिकम्युनिकेशन और इलेक्ट्रिकल एनर्जी के डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर्स की खूब डिमांड है। वैसे तो चीन की पहचान दुनिया में एक मैन्यूफैक्चरिंग हब के रूप में होती है। लेकिन केंद्र सरकार की मेक-इन-इंडिया कैंपेन में भारत को एशिया का मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाने ध्यान दिया जा रहा है। यानि आने वाले दिनों में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर्स की डिमांड बढ़ने वाली है।

योग्यता: UG स्तर के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कोर्स करने के लिए 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ विषयों के साथ 50% नंबर लाना जरूरी है। PG कोर्स के लिए 4 साल की बीटेक की डिग्री होनी जरूरी है।

केमिकल इंजीनियरिंग: केमिकल इंजीनियरिंग में केमिकल प्लांट्स के डिजाइन, मेंटेनेंस और रॉ मैटीरियल को उपयोग के लायक बनाने का काम होता है। इस प्रक्रिया के दौरान रॉ मैटीरियल से केमिकल वेस्ट को निकालकर कंपनियों के लिए नए प्रोडक्ट तैयार किए जाते हैं। इक्विपमेंट और प्लांट डिजाइन, टेस्टिंग और मैन्युफैक्चरिंग जैसे काम केमिकल इंजीनियर करते हैं।

योग्यता: 50% अंकों के साथ केमिस्ट्री, फिजिक्स और मैथ्स से 12वीं करने के बाद केमिकल इंजीनियरिंग का बीई या बीटेक कोर्स और केमिस्ट्री का बैचलर कोर्स किया जा सकता है। बीई या बीटेक कोर्स में प्रवेश के लिए JEE में 75% से ऊपर स्कोर करना जरूरी होता है। हालांकि, कुछ संस्थान खुद का एंट्रेंस टेस्ट भी करवाते हैं। बैचलर डिग्री के अलावा 3 साल का डिप्लोमा कोर्स भी छात्रों के लिए अच्छा ऑप्शन है।