पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

16 नवंबर से फ्री में कीजिए पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर सफर:PM मोदी सुल्तानपुर में एयरस्ट्रिप पर करेंगे उद्घाटन, अभी नहीं लगेगा टोल

लखनऊ/आजमगढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

PM नरेंद्र मोदी 16 नवंबर को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण सुल्तानपुर में कूडेभार की एयरस्ट्रिप करेंगे। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से लखनऊ, बाराबंकी, सुल्तानपुर, अंबेडकरनगर, अमेठी, अयोध्या, आजमगढ़ और मऊ पहुंचने में काफी सुविधा होगी। पहले सड़क से लखनऊ जाने में 6 घंटे लगते थे। लेकिन, अब लोग 3 घंटे 50 मिनट में लखनऊ पहुंच सकेंगे।

सरकार को एक्सप्रेस-वे से टोल में हर साल 202 करोड़ रुपए मिलेंगे। हालांकि, अभी कुछ दिन यह सफर फ्री रहेगा। टोल टैक्स वसूलने का काम निजी कंपनी को दिया गया है। यह कंपनी जल्द प्रति किमी के हिसाब से टोल की दरें तय करेगी। दोनों छोर पर बने टोल प्लाजा से आने-जाने पर टोल टैक्स लगना है। माना जा रहा है कि इसकी दरें लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे की दरों की तर्ज पर ही होंगी।

PM नरेंद्र मोदी सुल्तानपुर में कूडेभार स्थित एयरस्ट्रिप पर 16 नवंबर को दोपहर 2.30 बजे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण करेंगे।
PM नरेंद्र मोदी सुल्तानपुर में कूडेभार स्थित एयरस्ट्रिप पर 16 नवंबर को दोपहर 2.30 बजे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण करेंगे।

रोज गुजरेंगे 15 से 20 हजार वाहन

इस एक्सप्रेस-वे पर फिलहाल 15 से 20 हजार वाहन हर दिन गुजरेंगे। यह संख्या धीरे-धीरे और बढ़ेगी। सरकार की कोशिश है कि पूर्वी यूपी और बिहार से आने वाले लोग दिल्ली-नोएडा जाने के लिए इस एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल करें। इसके अलावा लखनऊ आगरा एक्सप्रेस-वे और यमुना एक्सप्रेस-वे का भी इस्तेमाल करें। इससे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का ज्यादा उपयोग हो सकेगा।

लखनऊ से गाजीपुर तक 301 किलोमीटर का सफर अब सिर्फ 3.50 घंटे में पूरा होगा।
लखनऊ से गाजीपुर तक 301 किलोमीटर का सफर अब सिर्फ 3.50 घंटे में पूरा होगा।

हादसे रोकने के लिए लगेगा ATMS

301 किमी के एक्सप्रेस-वे पर सुरक्षित यात्रा के लिए कई मजबूत इंतजाम किए गए हैं। इस पर ATMS (एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम) लागू किया गया है। पशुओं को रोकने के लिए दोनों तरफ फेंसिंग की गई है। इसके अलावा आवारा पशुओं को पकड़ने के लिए कई टीमें एक्सप्रेस-वे पर तैनात की गई हैं। दुर्घटना की स्थिति में हर पैकेज में लाइफ सपोर्ट सिस्टम युक्त दो-दो एंबुलेंस तैनात की गई हैं। सैनिक कल्याण बोर्ड ने यहां सुरक्षाकर्मी तैनात किए हैं। 20 पेट्रोलिंग वाहन तैनात किए गए हैं। क्रैश बैरियर भी लगाए गए हैं।

सरकार को इस एक्सप्रेस-वे के जरिए टोल के रूप में हर साल 202 करोड़ रुपए मिलेंगे।
सरकार को इस एक्सप्रेस-वे के जरिए टोल के रूप में हर साल 202 करोड़ रुपए मिलेंगे।

कहां से कहां तक जाएगा पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे

लखनऊ से गाजीपुर तक बना पूर्वांचल एक्सप्रेस वे छह लेन का है। फिलहाल पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे यूपी के 9 जिले लखनऊ, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़, बाराबंकी, अमेठी, मऊ और गाजीपुर से होकर गुजरेगा। बाद में इसका विस्तार बलिया तक कर दिया जाएगा।

टोल टैक्स वसूलने का काम निजी कंपनी को दिया गया है।
टोल टैक्स वसूलने का काम निजी कंपनी को दिया गया है।

यूपी और बिहार को जोड़ रहा है एक्सप्रेस-वे

इसके निर्माण पर 22 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की लागत आई है। यह एक्सप्रेस वे गाजीपुर के हैदरिया गांव के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 31 पर खत्म होगा। यह राजमार्ग यूपी और बिहार को जोड़ता है। हैदरिया से 18 किमी की दूरी पर बिहार के बक्सर जिले की सीमा शुरू होती है। बक्सर से पटना तक करीब 125 किलोमीटर लंबी फोरलेन सड़क पहले ही शुरू हो चुकी है।

301 किमी के एक्सप्रेस-वे पर सुरक्षित यात्रा के लिए कई मजबूत इंतजाम किए गए हैं।
301 किमी के एक्सप्रेस-वे पर सुरक्षित यात्रा के लिए कई मजबूत इंतजाम किए गए हैं।
पशुओं को रोकने के लिए दोनों तरफ फेंसिंग की गई है।
पशुओं को रोकने के लिए दोनों तरफ फेंसिंग की गई है।
एक्सप्रेस-वे यूपी के 9 जिले लखनऊ, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़, बाराबंकी, अमेठी, मऊ और गाजीपुर से होकर गुजरेगा।
एक्सप्रेस-वे यूपी के 9 जिले लखनऊ, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़, बाराबंकी, अमेठी, मऊ और गाजीपुर से होकर गुजरेगा।
इसके निर्माण पर 22 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की लागत आई है।
इसके निर्माण पर 22 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की लागत आई है।
दुर्घटना की स्थिति में हर पैकेज में लाइफ सपोर्ट सिस्टम युक्त दो-दो एंबुलेंस तैनात की गई हैं।
दुर्घटना की स्थिति में हर पैकेज में लाइफ सपोर्ट सिस्टम युक्त दो-दो एंबुलेंस तैनात की गई हैं।
इस एक्सप्रेस-वे पर फिलहाल रोजाना 15 से 20 हजार वाहन गुजरेंगे। यह संख्या धीरे-धीरे और बढ़ेगी।
इस एक्सप्रेस-वे पर फिलहाल रोजाना 15 से 20 हजार वाहन गुजरेंगे। यह संख्या धीरे-धीरे और बढ़ेगी।
सरकार की कोशिश है कि पूर्वी यूपी और बिहार से आने वाले लोग दिल्ली-नोएडा जाने के लिए इस एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल करें।
सरकार की कोशिश है कि पूर्वी यूपी और बिहार से आने वाले लोग दिल्ली-नोएडा जाने के लिए इस एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल करें।
खबरें और भी हैं...