पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX56747.14-1.65 %
  • NIFTY16912.25-1.65 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476900.69 %
  • SILVER(MCX 1 KG)607550.12 %

क्लोन चेक से सरकारी खजाने में सेंध लगाने वाला गिरफ्तार:लखनऊ पुलिस ने महाराष्ट्र से किया गिरफ्तार, बीस हजार का था इनामी, यूपीडा के खाते से निकाले थे 39.46 लाख

लखनऊ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विभूति खंड पुलिस की गिरफ्त में ठग ओम प्रकाश। - Money Bhaskar
विभूति खंड पुलिस की गिरफ्त में ठग ओम प्रकाश।

लखनऊ विभूतिखंड थाना पुलिस ने क्लोन चेक से सरकारी व प्राइवेट संस्थानों के खातों से लाखों रुपये की ठगी करने वाले जौनपुर निवासी ओम प्रकाश को महाराष्ट्र से गिरफ्तार कर लिया। विभूतीखंड इंस्पेक्टर चंद्र शेखर सिंह ने बताया कि पुलिस टीम ने सर्विलांस की मदद बीस हजार के इनामी ओम प्रकाश को मंगलवार शाम महाराष्ट्र थाणे स्थित मीरा रोड के पास से गिरफ्तार किया। ओम प्रकाश ने आजकल महाराष्ट्र पालमपुर नई बसी में ठिकाना बना रखा था। इसके अन्य साथियों की तलाश की जा रही है।

यूपीडा के सरकारी खातों से निकाले थे 39.46 लाख रुपये
विभूतीखंड पुलिस के साथ जांच कर रही यूपी एसटीएफ ने गिरफ्तार आरोपी ओम प्रकाश के साथी अरविंद कुमार तिवारी, शादाब अनवर शेख और मनीष कुमार को 21 अक्टूबर 2020 में और राशिद को 5 अगस्त 2021 को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में राशिद ने बताया था कि जौनपुर का ओम प्रकाश चेक का क्लोन बनाने में माहिर है। वही गिरोह का मास्टर माइंड है। राशिद की ही निशान देही पर पुलिस ओम प्रकाश तक पहुंची। ओम प्रकाश के कहने पर अरविंद तिवारी ने 27 जुलाई 2020 को जौनपुर एसबीआई से 9.93 लाख रुपये की और 31 जुलाई 2020 को 9.98 लाख रुपये की चेक का अपने खाते से भुगतान कराया। वहीं तीन अगस्त 2020 को शादाब अनवर शेख ने वाराणसी 9.68 लाख रुपये और 22 जुलाई 2020 को 9.86 लाख रुपये अशरफ आलम नाम के युवक ने मुंबई से निकाल लिए। जिसका सब लोगों ने काम के हिसाब से बटवारा कर लिया था। अरविंद के मुताबिक इन लोगों से हमारी मुलाकात करीब दो साल पहले जौनपुर निवासी मनीष मौर्या और उसके मुंबई निवासी साथी शादाब अनवर शेख ने कराई थी। जो ओमप्रकाश के साथ चेक क्लोन कर धोखाधड़ी का काम करते थे। इन लोगों की मदद से यूपीडा के साथ ही डॉ. शकुंतला मिश्र, नेशनल रिहैबिलेशन यूनीवर्सिटी और उत्तर प्रदेश राज्य आयुष सोसाइटी के भी चेकों को क्लोन करके विभिन्न खातों में लगाया था। यूपीडा के अलावा कहीं से भुगतान नहीं हो पाया।

बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबंधक ने दर्ज कराई थी एफआईआर
बैंक ऑफ बड़ौदा की विभूती खंड शाखा प्रबंधक संजय कुमार के मुताबिक बैंक में उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) का बचत खाता 14 फरवरी 2019 से चल रहा है। जिससे चार चेक के माध्यम से जालसाजों ने यूपीडा के खाते से 39.46 लाख रुपये निकाल लिए थे। इसके बाद शादाब अनवर के नाम से सेंट्रेलबैंक ऑफ इंडिया से यूपीडा से एक और 985600 रुपये का चेक पहुंचा। जब बैंक की तरफ से खाताधारक से बात की गई तो पता चला चेक फर्जी है। धोखाधड़ीऔर जालसाजी का पता चलने पर बैंक के चीफ मेनेजर ने विभूतीखंड थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

खबरें और भी हैं...