पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Dozens Of People Of Purvanchal Were Hunted In The Name Of Getting Garbage Management Work In Urban Development And Health Department, Case Happened In Lucknow

सरकारी ठेके के नाम पर करोड़ों की ठगी:नगर विकास और स्वास्थ्य विभाग में कूड़ा प्रबंधन का काम दिलाने के नाम पर पूर्वांचल के दर्जनों लोगों को बनाया शिकार, लखनऊ में हुआ केस

लखनऊ7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी काशीनाथ तिवारी - Money Bhaskar
आरोपी काशीनाथ तिवारी

लखनऊ में रहने वाले कुशीनगर के जालसाज ने सरकारी ठेके दिलाने के नाम पर पूर्वांचल के दर्जनों लोगों से करोड़ों रुपये ठग लिए। शनिवार को आधा दर्जन पीड़ित इंदिरानगर थाने पहुँचे। इनसे 2.53 करोड़ रुपए ठगे गए हैं। पुलिस ने इनकी तहरीर पर जालसाज काशीनाथ तिवारी समेत छह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

इंदिरानगर पुलिस के मुताबिक राम मुरारी आर्या, रत्नेश कुमार, बबलू कुमार, अभिषेक, सर्वेश और प्रमोद सिंह की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। पीड़ितों के मुताबिक मूल रूप से कुशीनगर निवासी काशीनाथ तिवारी लखनऊ के इंदिरानगर में रहता है। पिछले साल पीड़ितों की मुलाकात इससे गोरखपुर में हुई थी। काशीनाथ ने उन्हें बताया कि उसे भारतीय कूड़ा प्रबंधन संस्थान की तरफ से यूपी का कई विभागों में कूड़ा उठाने का ठेका मिला है। वह यह काम दूसरी फर्मों को सबलेट कर रहा है। उसने सभी पीड़ितों को लखनऊ के इंदिरानगर में पानी गाँव स्थित अपने कार्यालय पर बुलाया। यहाँ काम के लिए रुपयों की डील हुई। पीड़ितों के मुताबिक काशीनाथ ने गोरखपुर, प्रयागराज, झांसी और मेरठ मेडिकल कॉलेज में काम देने का आश्वासन दिया। इसके अलावा कई जिलों की नगर पालिकाओं का भी काम आवंटित होने की जानकारी दी।

फर्जी वर्क आर्डर थामकर करता रहा पेमेंट

पीड़ितों ने बताया कि सभी से 2.53 करोड़ रुपये ऐंठने के बाद आरोपी ने महराजगंज और कुछ अन्य नगरपालिका में काम के वर्क आर्डर का फर्जी लेटर दिया। उसके कहने पर वहाँ काम भी शुरू कर दिया गया। भरोसा बनाये रखने के लिए आरोपी ने करीब 30 लाख रुपये का भुगतान भी खाते में डाले। लेकिन बाद में पता चला कि वहाँ किसी और फर्मो को पहले ही काम मिल चुका है। इसपर पीड़ितों को ठगी का एहसास हुआ तो रुपये वापस मांगने काशीनाथ के घर पहुँचे। आरोप है कि काशी, उनकी पत्नी कालिंदी, साला अभिषेक और साली मीना ने मिलकर जालसाजी की थी। घर पहुँचने पर इन सभी ने पीड़ितों को धमकाना शुरू कर दिया। इंस्पेक्टर इंदिरानगर रामफल प्रजापति का कहना है रिपोर्ट दर्ज कर काशीनाथ और अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है।

खबरें और भी हैं...