पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लखनऊ...84 घंटे से ज्यादा समय से AKTU की काउंसिलिंग रुकी:प्रवेश प्रक्रिया ठप होने से अधर में हजारों बच्चों का भविष्य, विश्वविद्यालय प्रशासन नहीं दे पा रहा ठोस जवाब

लखनऊ7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीते शनिवार को AKTU ने काउंसिलिंग पर रोक लगाते हुए प्रवेश प्रक्रिया को अगले आदेश तक रोकने के जानकारी साझा की थी - प्रतीकात्मक चित्र - Money Bhaskar
बीते शनिवार को AKTU ने काउंसिलिंग पर रोक लगाते हुए प्रवेश प्रक्रिया को अगले आदेश तक रोकने के जानकारी साझा की थी - प्रतीकात्मक चित्र

AKTU यानी डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय में काउंसिलिंग प्रक्रिया बीते 84 घंटे से ज्यादा समय से रुकी है। नतीजतन यूनिवर्सिटी से एफिलिएटेड प्रदेशभर के करीब 750 से ज्यादा कॉलेज की एडमिशन प्रक्रिया ठप है। फिलहाल काउंसिलिंग कब शुरु होगी इस बाबत विश्वविद्यालय प्रशासन के पास कोई जवाब नही है।

वही काउंसिलिंग के लिए जिम्मेदार संस्थान NTA यानी नेशनल टेस्टिंग एजेंसी भी अभी कुछ बोलने की स्थिति में नजर नही आ रहे। बहरहाल, इस पूरे घटनाक्रम से एडमिशन का इंतजार कर रहे इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट समेत तमाम कोर्स के हजारों स्टूडेंट्स के मन मे भविष्य को लेकर दुविधा है।बहरहाल, घटनाक्रम से एडमिशन का इंतजार कर रहे इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट समेत तमाम कोर्स के हजारों स्टूडेंट्स के भविष्य का

शनिवार से AKTU में एडमिशन काउंसिलिंग रोकने के निर्देश जारी किए गए थे

शनिवार शाम से AKTU की काउंसिलिंग प्रक्रिया ठप है। एकेटीयू की ओर से तर्क दिया गया कि काउंसिलिंग प्रक्रिया के तहत रैंकिंग में गड़बड़ी की बात सामने आ रही है। जिम्मेदारों की दलील यह भी रही कि साफ्टवेयर में समस्या के कारण भी यह दिक्कत हो सकती है और मानवीय गलती के कारण भी।

जांच के बाद ही चीजें स्पष्ट हो सकेंगी। मगर 84 घंटे बीतने के बाद भी जिम्मेदार यह नहीं बता पा रहे की गड़बड़ी क्यों और किस स्तर पर हुई है। कारण कुछ भी हो, मगर गलती का खामियाजा AKTU में काउंसिलिंग के लिए पंजीकरण करा चुके 26 हजार से अधिक छात्र व कालेजों में रिपोर्ट कर फीस जमा कर चुके वाले स्टूडेंट्स को भुगतना पड़ रहा। हालांकि, AKTU प्रशासन का दावा है कि वो लगातार एनटीए की टीम के संपर्क में हैं और उनसे संशोधित मेरिट लिस्ट मांगी जा रही है। संशोधित मेरिट लिस्ट प्राप्त होते ही काउंसलिंग की प्रक्रिया को आगे बढ़ा दिया जाएगा।

AKTU ने इस बार ऐसे लिए थे दाखिले

एकेटीयू में दाखिले के लिए हर साल यूनिवर्सिटी स्तर पर ही परीक्षा कराई जाती रही है। AKTU द्वारा ही काउंसिलिंग की प्रक्रिया के तहत रैंकिंग व सीट अलाटमेंट किया जाता रहा। मगर इस बार एकेटीयू में जेईई मेन के जरिए दाखिले की व्यवस्था है, जिसे कराने की जिम्मेदारी NTA यानी नेशनल टेस्टिंग एजेंसी को सौंपी गई। NTA द्वारा दिए गए परीक्षा परिणाम के आधार पर एकेटीयू ने काउंसिलिंग प्रक्रिया आयोजित की गई।

इसके तहत अभ्यर्थियों द्वारा पंजीकरण की प्रक्रिया भी पूरी करा ली गई थी। करीब 26 हजार 334 से अधिक अभ्यर्थियों द्वारा पंजीकरण भी करा लिया गया था। अभ्यर्थियों की रैंक भी तैयार कर ली गई थी। उन्हें अपनी रैंक के अनुसार सीट आवंटन का इंतजार था, मगर अचानक AKTU ने काउंसिलिंग प्रक्रिया पर रोक लगा दी। बताया जा रहा है कि रैकिंग में बड़ी अनियमितता सामने आने के बाद एकेटीयू को यह निर्णय लेना पड़ा। एकेटीयू के अधिकारियों का कहना है कि इस संबंध में एनटीए के अधिकारियों को सूचना दे दी गई है, जल्द ही नई मेरिट सूची जारी की जाएगी।

HBTU व MMTU के दाखिले भी अटके

इसी मेरिट सूची के आधार पर गोरखपुर की MMTU और कानपुर के HBTU में भी दाखिले हो रहे थे। वहां भी प्रभावी रोक लगा दी गई।

इन कोर्स के एडमिशन लटके

बीटेक, बीफार्मा, एमबीए, एमसीए, होटल मैनेजमेंट, BFA समेत अन्य।

क्या बोल रहे जिम्मेदार

AKTU के कुलपति प्रो.विनीत कंसल ने बताया कि NTA के अधिकारियों के साथ बुधवार सुबह भी हमारी काफी देर तक चर्चा हुई। हम पूरे रुट कॉज एनालिसिस पर चर्चा कर रहे है। एनटीए की ओर से जल्द ही समस्या के निजात का भरोसा भी मिला है। जल्द ही इसे चालू कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...