पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भू-माफिया का साथ देने पर आशियाना इंस्पेक्टर निलंबित:लखनऊ के तोंदेखेड़ा गांव में सामुदायिक केंद्र पर कब्जा कराने का आरोप, आरोपी अधिवक्ता समेत तीन गिरफ्तार

लखनऊ10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाकियू लोक तांत्रिक दल के मंडल उपाध्यक्ष दुर्गा दीन लोधी, लालता गौतम समेत सैकड़ों ग्रामीणों ने आशियाना थाने का घेराव कर की थी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग। - Money Bhaskar
भाकियू लोक तांत्रिक दल के मंडल उपाध्यक्ष दुर्गा दीन लोधी, लालता गौतम समेत सैकड़ों ग्रामीणों ने आशियाना थाने का घेराव कर की थी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग।

लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने तोंदेखेड़ा गांव में सामुदायिक केंद्र पर भू-माफिया के कब्जा करने के मामले में हीलाहवाली करने वाले आशियाना इंस्पेक्टर ब्रजेंद्र मिश्र को निलंबित कर दिया। साथ ही मामले की जांच एडीसीपी सेंट्रल को सौंपी दी। वहीं आशियाना पुलिस ने सरकारी जमीन पर कब्जा करने वाले आरोपी रामकुमार, संदीप शर्मा और अधिवक्ता अनिल तिवारी को शुक्रवार देर शाम गिरफ्तार कर लिया गया। अधिवक्ता ने जमीन संदीप शर्मा होने की बात कह सोमवार को सामुदायिक केंद्र को जेसीबी से गिरवा कर कब्जा कर लिया था। जिसके बाद किसान यूनियन व स्थानीय लोगों ने थाने का घेराव कर कार्रवाई की मांग की थी। दूसरी तरफ डीसीपी पश्चिम के दफ्तर में तैनात धीरज शुक्ल को आशियाना थाने का नया प्रभारी बना दिया गया।

फर्जी दस्तावेज पेश कर जताया था मालिकाना हक
इंस्पेक्टर धीरज शुक्ल ने बताया कि तोंदेखेड़ा में सामुदायिक केंद्र पर इलाके के राम कुमार ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर मालिकाना हक जता रहे थे। जिसके आधार पर उन्होंने यह जमीन संदीप शर्मा को बेच दी थी। इन्हीं फर्जी दस्तावेज के आधार पर सोमवार को अधिवक्ता अनिल तिवारी के साथ पहुंचे दर्जन भर लोगों ने सामुदायिक केंद्र गिराकर कब्जा कर लिया था। जिसकी एलडीए की तरफ से एफआईआर दर्ज कराई गई थी। शुक्रवार देर शाम अनिल तिवारी, रामकुमार और संदीप को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया। वहीं अन्य आरोपियों की सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पहचान की जा रही है।
चार अक्टूबर को जेसीबी से गिरवा दिया था सामुदायिक केंद्र
चार अक्टूबर को अधिवक्ता अनिल तिवारी ने सामुदायिक केंद्र की इमारत जेसीबी से ढहा दिया था। उसका कहना था कि जमीन उनके क्लाइंट संदीप शर्मा की है। सामुदायिक केंद्र को गिरवाने का उसके पास आर्डर है। जबकि करीब 5000 वर्ग फीट में बने इस सामुदायिक केन्द्र का निर्माण 2018-2019 में एलडीए ने कराया था। वहीं ग्रामीणों के विरोध पर मारपीट की गई थी। जिसके बाद भाकियू लोक तांत्रिक दल के मंडल उपाध्यक्ष दुर्गा दीन लोधी, लालता गौतम समेत सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण आशियाना थाने पहुंच कर कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा किया था। इन लोगों ने इसके पीछे पुलिस और एलडीए के इंजीनियरों की मिली भगत का आरोप लगाया था। दूसरी तरफ एलडीए सचिव पवन कुमार गंगवार ने कहा था कि इस मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसको लेकर एलडीए ने आशियाना थाने में तहरीर थी दी।