पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाबालिग से रेप मामले में महिला सहित 2 गिरफ्तार:ललितपुर में एसआईटी कर रही जांच, आरोपियों की संख्या 6 से बढ़कर हुई 8

ललितपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ललितपुर जिले के पाली थाना क्षेत्र अंतर्गत 13 साल की किशोरी के साथ हुए रेप मामले में एसआईटी टीम ने एक महिला सहित दो आरोपियों को और गिरफ्तार कर लिया है। इस प्रकार रेप मामले में आरोपियों की संख्या थानाध्यक्ष सहित 8 पहुंच गई है। वहीं SIT टीम द्वारा कस्टडी पर लिए गए गैंगरेप के मुख्य आरोपी चंदन व हरीशंकर को पूछताछ के बाद जेल भेज दिया है। इसके पूर्व आरोपी थानाध्यक्ष को भी पूछताछ के लिए कस्टडी रिमाण्ड पर दो दिन के लिए लिया गया गया था। उसे पूर्व में ही जेल भेज दिया गया था।

थाने के कमरे में एसएचओ ने किया था रेप

पाली थानाध्यक्ष क्षेत्र अंतर्गत 13 साल की नाबालिग को 22 अप्रैल को चार युवकों द्वारा अपहरण कर भोपाल ले जाकर 3 दिन तक गैंगरेप किया गया था। उसके बाद उसे ललितपुर थाने में छोड़ दिया गया था। यही नहीं रिपोर्ट लिखाने थाने पहुंची पीडि़ता के साथ 27 अप्रैल को तत्कालीन थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज द्वारा उसके साथ रेप कर मौसी को सौंप दिया गया था। इस मामले में पुलिस ने तत्कालीन थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज के अलावा पीड़ित की मौसी गुलाबरानी के साथ ही साथ गैंगरेप करने वाले आरोपी चंदन, हरीशंकर, महेन्द्र चौरसिया व राजभान को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

SIT कर रही जांच

इस मामले की जांच कर रही एसआईटी टीम द्वारा नाबालिग को आरोपियों के साथ भगाने में सहयोग करने वाली गुलाबरानी की रिश्ते की जेठानी ज्ञान बाई के अलावा आरोपी चंदन के बड़े भाई धर्मेन्द्र को एसआईटी टीम ने धर दबोचा है। जहां ज्ञानबाई को एक दिन पूर्व जेल भेज दिया गया था।

इनको किया गया गिरफ्तार

मंगलवार को आरोपी धर्मेन्द्र को भी जेल भेज दिया गया। इस मामले में ज्ञान बाई व आरोपी धर्मेन्द्र पर धारा 368 के तहत मामला दर्ज किया गया है। इस प्रकार गैंगरेप के मामले में आरोपियों की संख्या 6 से बढ़कर 8 पहुंच गई है।वहीं कस्टडी और रिमाण्ड पर लिए गए आरोपी चंदन, हरीशंकर को एसआईटी टीम द्वारा सोमवार को ही जेल में दाखिल करा दिया गया है। इसके पूर्व आरोपी इंस्पेक्टर तिलकधारी सरोज व महिला आरोपी गुलाबरानी को 13 मई को रिमांड पर लिया गया था। जहां गुलाबरानी को 13 मई को पूछताछ के बाद शाम को जेल भेज दिया गया। तो आरोपी इंस्पेक्टर तिलकधारी को 14 मई की शाम को भेल भेजा गया।

खबरें और भी हैं...