पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57491.51-2.62 %
  • NIFTY17149.1-2.66 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486500.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64467-0.29 %

लखीमपुर खीरी...तिकुनिया कांड की जांच को पहुंची SIT:हाईकोर्ट के रिटायर जज और 3 IPS अफसरों ने 2 घंटे तक की पड़ताल, सील किया घटनास्थल

लखीमपुर खीरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तिकुनिया कांड की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित उच्च स्तरीय टीम गुरुवार को लखीमपुर खीरी पहुंची। - Money Bhaskar
तिकुनिया कांड की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित उच्च स्तरीय टीम गुरुवार को लखीमपुर खीरी पहुंची।

तिकुनिया कांड की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित उच्च स्तरीय टीम गुरुवार को लखीमपुर खीरी पहुंची। टीम ने घटनास्थल का भी दौरा किया। सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज राकेश कुमार जैन को जांच टीम की निगरानी सौंपी है। टीम ने तीन आईपीएस अफसर बढ़ाए हैं, जिनमें एडीजी इंटेलिजेंस एस बी शिरोडकर, आईजी भर्ती बोर्ड पद्मजा चौहान और डीआईजी सहारनपुर प्रीतिंदर सिंह शामिल हैं।

सभी अफसर गुरुवार सुबह 11 बजे खीरी पहुंचे, जहां पर डीएम और एसपी ने उनकी अगवानी की और उसके बाद एसपी संजीव सुमन समेत पूरी टीम तिकुनिया में घटनास्थल की ओर रवाना हो गई। एक बजे टीम वहां पहुंची और घटनास्थल का निरीक्षण किया। टीम ने अग्रसेन इंटर कॉलेज और मंत्री के गांव बनवीरपुर का भी दौरा किया।

दो घंटे बाद चार बजे टीम वापस लौट आई है और कप्तान समेत सभी आईपीएस अफसर बैठकर गेस्ट हाउस में चर्चा कर रहे हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से 17 नवंबर को जांच टीम का पुनर्गठन किए जाने के आठ दिन बाद पहली बार जांच टीम खीरी पहुंची।गौरतलब है कि तीन अक्तूबर को तिकुनिया में हिंसा हुई थी इसमें चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हुई थी।

एसआईटी की टीम ने अग्रसेन इंटर कॉलेज और मंत्री के गांव बनवीरपुर का भी दौरा किया।
एसआईटी की टीम ने अग्रसेन इंटर कॉलेज और मंत्री के गांव बनवीरपुर का भी दौरा किया।

घटना वाले दिन डायवर्ट किया गया रूट भी देखा

लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए डायवर्ट किए गए रूट को भी SIT ने देखा। SIT के अफसर सुबह सीधे रास्ते तिकुनिया गए। फिर बेलरायां होकर वापस आए। तीन अक्टूबर को किसान तिकुनिया में काले झंडे दिखाने के लिए जमा हुए थे। प्रदर्शन को देखते हुए प्रशासन ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का रूट बदल दिया। प्रशासन उनको सीधे रास्ते बनवीरपुर नहीं ले जाता। तब तक तिकुनिया कांड हो गया।

SIT के अफसर गुरुवार को निघासन से सिंगाही होते हुए तिकुनिया पहुंचे। घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद वह बनवीरपुर गांव में होते हुए उस रास्ते से वापस लखीमपुर आए। जिस रास्ते से घटना वाले दिन प्रशासन डिप्टी सीएम को बनवीरपुर गांव ले जाना चाहता था। इस रास्ते में तिकुनिया नहीं पड़ता है।

ये हैं नई SIT के IPS अफसर

  • तिकुनिया कांड की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने तीन सीनियर IPS अफसरों की एसआईटी गठित की है।
  • SIT की जांच की मॉनिटरिंग पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज राकेश जैन करेंगे।
  • SIT के सबसे सीनियर ऑफिसर एसबी शिरोडकर हैं। वह मूलरूप से महाराष्ट्र के निवासी हैं और 1993 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। वर्तमान में वह करीब तीन वर्ष से एडीजी इंटेलीजेंस के महत्वपूर्ण पद पर तैनात हैं।
  • पद्मजा चौहान मूलरूप से हैदराबाद की निवासी हैं। वह 1998 बैच की IPS अधिकारी हैं। तेज तर्रार अधिकारियों में शुमार पद्मजा चौहान वर्तमान में IG उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती व प्रोन्नति बोर्ड के पद पर तैनात हैं।
  • SIT में सबसे जूनियर डॉ. प्रीतिंदर सिंह हैं। वह मूलरूप से पंजाब के निवासी हैं। डॉ. प्रीतिंदर सिंह 2004 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। एमबीबीएस करने के बाद आईपीएस बने प्रीतिंदर सिंह की गिनती तेज तर्रार अधिकारियों में होती है और वह वर्तमान में डीआईजी सहारनपुर रेंज के पद पर तैनात हैं।
खबरें और भी हैं...