पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीबी से ग्रसित 30 बच्चियों को गोद लेगा सेवा भारती:पोषाहार और गुणवत्तापूर्ण भोजन दिया जाएगा, क्षय रोग से मिलेगा छुटकारा

लखीमपुर-खीरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखीमपुर खीरी में क्षय रोग नियंत्रण को लेकर लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में टीबी से ग्रस्त निर्धन परिवार के मरीज को पोषाहार दिए जाने के उन्हें गोद लिया जा रहा है। सेवा भारती परिवार ने टीबी से ग्रस्त 30 बच्चियों को गोद लेने का निर्णय लिया है। इसके लिए सेवा भारती के प्रतिनिधि मंडल ने जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. अनिल कुमार गुप्ता के साथ गुरुवार को बैठक कर बच्चियों को गोद लेने की बात कही।

नोडल अधिकारी डॉ. अनिल कुमार गुप्ता ने बताया कि जिला क्षय रोग कार्यक्रम के अंतर्गत ऐसे गरीब मरीजों को गोद लेने का अभियान चलाया जा रहा है। जो इलाज के दौरान गुणवत्तापूर्ण भोजन नहीं कर पा रहे हैं। जिससे उनको सही होने में अधिक समय लगता है। डीएम महेंद्र बहादुर सिंह, सीडीओ अनिल कुमार सिंह, सीएमओ डॉ. शैलेंद्र भटनागर और जिले के अन्य अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधियों ने भी इस अभियान के अंतर्गत निर्धन बच्चों को गोद लिया है। इसी क्रम में अब सेवा भारती परिवार बड़ी तादात में ऐसी बच्चियों को गोद लेने जा रहा है।

क्षय रोग अधिकारी से मिला सेवा भारती परिवार
इसे लेकर गुरुवार को सेवा भारती के प्रांत मंत्री रजनीश गुप्ता, उपाध्यक्ष अनिल मिश्रा, कोषाध्यक्ष सतीश गुप्ता, सह मंत्री योगेश जोशी सहित स्वास्थ्य आयाम सहप्रमुख दीपक पुरी ने एएनएम ट्रेनिंग सेंटर सभागार में जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. अनिल कुमार गुप्ता के साथ बैठक कर विचार विमर्श किया।

लखीमपुर खीरी में क्षय रोग अधिकारी से सेवा भारती परिवार के प्रतिनिधि मंडल ने की मुलाकात।
लखीमपुर खीरी में क्षय रोग अधिकारी से सेवा भारती परिवार के प्रतिनिधि मंडल ने की मुलाकात।

6 माह तक के पोषण की निभाएगा जिम्मेदारी
इस दौरान प्रांत मंत्री रजनीश गुप्ता ने कहा कि सेवा भारती परिवार 30 निर्धन बच्चियों को गोद लेगा। जो शहर के 30 किलोमीटर के दायरे में रहती हैं और उनके छह माह तक के पोषण की जिम्मेदारी को निभाएगा। किसानों ने सेवा भारती परिवार के अन्य पदाधिकारियों और सदस्यों से यह अपील किया है कि वह आगे आकर ऐसी बच्चियों को गोद लेकर उनके पोषाहार की जिम्मेदारी को उठाएं। जिससे टीबी से ग्रसित जिले के सभी मरीजों को गुणवत्तापूर्ण पोषाहार मिल सके।

खबरें और भी हैं...