पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57260.580.27 %
  • NIFTY17053.950.16 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47950-0.42 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62854-0.82 %

मंत्री से हटा इस्तीफे का दबाव?:अजय मिश्र हिंसा के 13 दिन बाद लखीमपुर में ही सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल हुए, उधर उनके खिलाफ किसानों का प्रदर्शन जारी

लखीमपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखीमपुर हिंसा में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी का बेटा आशीष मिश्र जेल में है। उधर, वह अब सार्वजनिक कार्यक्रमों में शामिल होने लगे हैं।

लखीमपुर हिंसा में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी का बेटा आशीष मिश्र जेल में है। उधर, आज देशभर के किसान मंत्री के इस्तीफे के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं। इन सबके बावजूद अजय मिश्र टेनी लखीमपुर में सोशल वर्क में व्यस्त हैं। उन पर लखीमपुर हिंसा का कोई भी दबाव नहीं दिख रहा है। ऐसे में सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या अजय मिश्र के ऊपर से इस्तीफे का दबाव खत्म हो गया है?

लखीमपुर में ही सार्वजनिक कार्यक्रम में हुए शामिल
अजय मिश्र लखीमपुर हिंसा के 13 दिन बाद किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल हुए। वे जिला अस्पताल के बाल रोग विभाग में जरूरी उपकरण देने पहुंचे थे। 21 उपकरण कंटेनर निगम लिमिटेड कंपनी द्वारा भेंट किए गए हैं। इन उपकरणों को शनिवार को मंत्री की उपस्थिति में स्वास्थ्य विभाग को सुपुर्द किया गया। इस दौरान अपने भाषण में उन्होंने लखीमपुर स्वास्थ्य विभाग की भी तारीफ की।

स्वास्थ्य विभाग को उपकरण सौंपते केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी।
स्वास्थ्य विभाग को उपकरण सौंपते केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी।

8 अक्टूबर को पहुंचे थे लखनऊ

इससे पहले अजय मिश्र 8 अक्टूबर को सीएम योगी की बैठक में शामिल होने लखनऊ पहुंचे थे। यहां सीएम आवास पर अवध क्षेत्र के भाजपा सांसद और विधायकों की बैठक थी। जिसमें वह शामिल होने आये थे। हालांकि, अंतिम समय पर वह बैठक में शामिल नहीं हुए थे।

विपक्ष और किसान मंत्री के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। जबकि मंत्री अपने कार्यक्रमों में व्यस्त हैं।
विपक्ष और किसान मंत्री के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। जबकि मंत्री अपने कार्यक्रमों में व्यस्त हैं।

टिकैत ने कहा- जब तक इस्तीफा नहीं, विरोध जारी रहेगा
उधर, भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने एक बार फिर कहा कि अजय मिश्र टेनी के इस्तीफे से नीचे कुछ नहीं माना जाएगा। यदि इस्तीफा नहीं हुआ तो आंदोलन और व्यापक होगा। उन्होंने कहा कि अभी 18 अक्टूबर को रेल रोको आंदोलन है, जबकि टेनी के इस्तीफे पर जल्द फैसला नहीं हुआ तो लखनऊ में महापंचायत करेंगे।

खबरें और भी हैं...