पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लखीमपुर-खीरी में घाघरा नदी ने शुरू की कटान:प्रशासन ने नहीं किया बचाव कार्य, ईसानगर के ग्रामीणों ने नदी के तट पर आमरण अनशन की दी चेतावनी

लखीमपुर-खीरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखीमपुर खीरी के ईसानगर क्षेत्र में लगातार बरसात के बाद उफनाई घाघरा नदी का जलस्तर कम होते ही नदी ने कटान तेज करते हुए कई गांवों की कृषि योग्य जमीनों को अपने आगोश में ले लिया है। अब नारीबेहड़ गांव की तरफ कटान शुरू हो गई है।

जिससे ग्रामीण दहशत में हैं। ग्रामीणों ने प्रशासन की बेरुखी के विरोध में गुरुवार कोण तिरंगा लेकर नदी के तट पर पहुंचे। कटान रोकने के इंतजाम न करने पर आमरण अनशन की चेतावनी दी।

ईसानगर क्षेत्र में सप्ताह भर पहले हुई मूसलाधार बरसात के बाद उफनाई घाघरा नदी का जलस्तर कम होते ही नदी ने सैकड़ों बीघा कृषि योग्य जमीनों को अपने आगोश में लेते हुए नारीबेहड़ गांव तक पहुंच गई। जिसको देख भयभीत ग्रामीणों ने गुरुवार को गांव के बाहर नदी के तट पर तिरंगा लेकर प्रदर्शन किया।

ईसानगर में ग्रामीणों व किसानों ने हाथ में तिरंगा लेकर प्रदशर्न किया।
ईसानगर में ग्रामीणों व किसानों ने हाथ में तिरंगा लेकर प्रदशर्न किया।

मुख्यमंत्री से राहत की मांग

प्रशासन से जल्द ही बचाव कार्य शुरू कर कटान रोकने की मांग की है। गांव को खतरे में देखते हुए भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकरियों व किसान व ग्रामवासियों ने अपना दर्द बयां करते हुए बताया कि आज नदी के तट पर सभी लोगों ने मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि अन्नदाता किसानों के घर बचाए जाएं। उनका दर्द देखा जाए।

खबरें और भी हैं...