पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रोडवेज बस और ट्रक की भिड़ंत में 5 की मौत:24 घायल, इनमें 20 की हालत गंभीर; लखीमपुर-खीरी में हुआ हादसा

लखीमपुर-खीरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखीमपुर-खीरी में शुक्रवार सुबह रोडवेज बस और ट्रक की आमने-सामने टक्कर हो गई। हादसे में 5 लोगों की मौके पर मौत हो गई। करीब 24 घायल हैं। इनमें 20 की हालत गंभीर है। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया। वहां से गंभीर घायलों को हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया है।

हादसा नेशनल हाईवे पर सुबह 11 बजे हुआ। अनुबंधित रोडवेज बस धौरहरा से लखीमपुर-खीरी जा रही थी। ईसानगर थाना क्षेत्र के भरेठा गांव के पास सामने से आ रहे ट्रक से बस की भिड़ंत हो गई। टक्कर इतनी तेज थी कि बस-ट्रक का अगला हिस्सा बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। बस के केबिन में दबकर बस के चालक सीतापुर के हरगांव निवासी भालचंद्र मिश्र की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं बस के परिचालक मैनपुरी जिले के इटावा के रहने वाले नायब सिंह की जिला अस्पताल में मौत हो गई। इसके अलावा जमाल पुत्र छोटन्न निवासी सिसैया, अवसाफ निवासी कांधला जनपद शामली, सिराजुल निवासी रुद्रपुर उत्तराखंड की भी मौत हो गई। जबकि रेशमा पत्नी जमाल, अंश कुमार, चंदन आदि समेत 24 घायल हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर घटना पर अफसोस जाहिर किया है।

मौके पर पहुंची पुलिस घायलों को नजदीकी सीएचसी ले गई, वहां से 20 लोगों को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया।
मौके पर पहुंची पुलिस घायलों को नजदीकी सीएचसी ले गई, वहां से 20 लोगों को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया।

पुलिस ने बताया कि ट्रक ओवरलोड था। उसमें भूसी भरी थी। टक्कर के बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने बस का शीशा तोड़कर घायलों को बाहर निकाला। 24 लोग घायल थे, ज्यादातर बस सवार थे। सभी को सीएचसी खमरिया ले जाया गया। 20 की हालत गंभीर होने पर उन्हें हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया है। आशंका है कि हादसे में मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

लखीमपुर खीरी में हादसे में घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। अचानक से ज्यादा घायल पहुंचने पर अस्पताल प्रशासन को व्यवस्था बनानी पड़ी।
लखीमपुर खीरी में हादसे में घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। अचानक से ज्यादा घायल पहुंचने पर अस्पताल प्रशासन को व्यवस्था बनानी पड़ी।

प्रत्यक्षदर्शी बोला- ओवरटेक के चक्कर में हुआ हादसा
बस में बैठे यात्री राजू ने बताया,"हम लोग धौरहरा से खीरी जा रहे थे। बस में 55 लोग बैठे थे। 15 किलोमीटर धौरहरा से आगे भरेटा गांव सड़क पर एक डीसीएम खराब खड़ी हुई थी। बस के ड्राइवर ने ओवरटेक करके बस को निकालने की कोशिश की। बस की स्पीड बहुत तेज थी। डीसीएम की वजह से सामने से आ रहा ट्रक ड्राइवर को नहीं दिखा। उसने कट करके बस को निकालने की कोशिश की और ट्रक से बस की भिड़ंत हो गई। ड्राइवर की लापरवाही से ये हादसा हुआ है।"

उन्होंने आगे बताया, "भिड़ंत के बाद ट्रक का ड्राइवर और उसमें बैठा युवक बीच में दब गया। दोनों का शव देखा नहीं जा रहा था। बस में बैठे यात्री टक्कर तेज होने के कारण बस की खिड़की से निकलकर बाहर गिर गए। हम लोग पीछे बैठे थे तो कम चोट आई हैं। आगे बैठे लोग तो बुरी तरह से फंसे हुए थे, उनको सीट काटकर बाहर निकाला गया है।"

पत्नी के साथ दवाई लेने जा रहा था जमाल

सिसैया निवासी जमाल काफी दिनों से बीमार था। वह शुक्रवार को अपनी पत्नी रेशमा के साथ जिला मुख्यालय पर दवाई लेने जा रहा था। वह हादसे से कुछ ही देर पहले बस में सिसैया चौराहे से चढ़ा था। इसके कुछ ही मिनटों बाद हादसा हो गया, इसमें जमाल की मौत हो गई। पत्नी रेशमा की हालत भी चिंताजनक बनी हुई है।

लखीमपुर खीरी में हाईवे पर हादसे के बाद लोगों की भीड़ जुट गई, लोगों की मदद से घायलों को वाहनों से निकाला गया।
लखीमपुर खीरी में हाईवे पर हादसे के बाद लोगों की भीड़ जुट गई, लोगों की मदद से घायलों को वाहनों से निकाला गया।

परिवार बोला-जिला अस्पताल में नहीं ऑक्सीजन के इंतजाम

हादसे में जान गंवाने वाले रोडवेज बस के परिचालक नायब सिंह के परिवार का आरोप है कि जिला अस्पताल में इलाज की सुविधाएं नहीं हैं। ऑक्सीजन न मिलने के कारण ही नायब की जान चली गई। अस्पताल में सुविधाएं होती तो जान बच सकती थी।

लखीमपुर खीरी में हादसे के बाद एबुंलेंस से घायलों को अस्पताल ले जाया गया, जिला अस्पताल से कई घायल रेफर कर दिए गए।
लखीमपुर खीरी में हादसे के बाद एबुंलेंस से घायलों को अस्पताल ले जाया गया, जिला अस्पताल से कई घायल रेफर कर दिए गए।

धौरहरा विधायक बोले-अस्पताल लाने वालों ने की गलती

धौरहरा विधायक विनोद शंकर अवस्थी ने घायलों को अस्पताल लाने वालों पर ही सवाल खड़े कर दिए। कहा कि सभी अस्पताल मोतीपुर में हैं, घायलों को वहां ले जाना चाहिए था, उन्हें यहां नहीं लाना चाहिए था। यहां केवल 2 से 3 एमबीबीएस हैं। घायलों में 2 से 3 का ही इलाज यहां हो सकता है, बाकी को लखनऊ ले जाना चाहिए।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखीमपुर-खीरी हादसे पर ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है।
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखीमपुर-खीरी हादसे पर ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर जताया शोक

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर अफसोस जताया है। उन्होंने जिले के अधिकारियों को घायलों के अच्छे इलाज के प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने हादसे में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति भी संवेदना जताई है।

धौरहरा के सरकारी अस्पतालों में इमरजेंसी सुविधाएं ठीक नहीं

धौरहरा में चार मुख्य सीएचसी खमरिया ,धौरहरा, रमियाबेहड़ व पीएचसी ईसानगर हैं। लेकिन यहां गंभीर मरीजों के इलाज की सुविधा नहीं है। इन अस्पतालों में इमरजेंसी में पहुंचने वाले मरीजों को एम्बुलेंस में ही पट्टी बांधकर जिला मुख्यालय भेज दिया जाता है। समय पर इलाज न मिलने पर कई मरीजों की मौत भी हो जाती है।

खबरें और भी हैं...