पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोला गोकर्णनाथ में उत्साहपूर्वक मनाया गया विजय दशमी पर्व:राम-रावण युद्ध के मंचन के बाद धू-धू कर जला रावण, जय श्रीराम के जयकारों से गूंजा परिसर

गोला गोकर्ण नाथ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखीमपुर खीरी जिले के गोला गोकर्णनाथ में उत्साहपूर्वक विजय दशमी पर्व मनाया गया। यहां प्रतीकात्मक रावण जलाकर बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाया गया। इस मौके पर भगवान राम की जय जयकार से परिसर गूंज उठा। बीती देर शाम मेला मैदान में रावण दहन हुआ। रावण वध के बाद मैदान पर जमकर आतिशबाजी की गई।

इस मौके पर लोगों ने असत्य पर सत्य की जीत का जश्न मनाया। मेला देखने के लिए बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ी। आसपास के कई गांव से भी लोग रावण दहन देखने के लिए पहुंचे। इस दौरान कुछ लोग रावण के जले पुतले की राख भरकर ले जाते दिखाई दिए।

करीब 15 दिन की मेहनत के बाद दशानन का 40 फीट ऊंचा, दस सिर वाला पुतला तैयार किया गया। दोपहर को पुतले को मेला मैदान में खड़ा कर दिया गया। लेकिन दोपहर में हुई बारिश से पुतला भीग गया। हालांकि बाद में इसे तिरपाल से ढक दिया गया। बारिश के चलते नगर में रावण दहन पर असमंजस की स्थिति बनी हुई थी। किन्तु जब 3 बजे बारिश पूर्ण रूप से बंद हो गई तो उसके बाद मंचन का जारी हुआ।

रामलीला मैदान में कलाकारों ने राम-रावण युद्ध का मंचन किया। इस दौरान रावण के कई रूप देखने को मिले। काफी देर तक चले युद्ध में अंत में भगवान राम ने रावण का वध किया। इसके बाद आतिशबाजी के साथ रावण के विशाल पुतले का दहन किया गया। पुतला दहन के बाद असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक दशहरे का पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया गया।

खबरें और भी हैं...