पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लखीमपुर खीरी में भतीजे ने चाचा को मारी गोली, मौत:घर में रखने को लेकर दोनों में हुआ था विवाद; पूरे परिवार का रहा है आपराधिक इतिहास

गोला गोकर्ण नाथ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी सौरभ - Money Bhaskar
आरोपी सौरभ

लखीमपुर खीरी में एक भतीजे ने अपने चाचा की गोली मारकर हत्या कर दी। दोनों में चाची को घर में रखने को लेकर कई दिनों से विवाद चल रहा था। बुधवार की रात में विवाद इतना ज्यादा बढ़ गया कि भतीजे ने चाचा के सीने में गोली उतार दी। चाचा की मौके पर ही मौत हो गई।

मामला गोला गोकर्णनाथ के भूतनाथ कालोनी का है, यहां पर रामाधार वर्मा (62) अपने भाई निर्दोष वर्मा उर्फ धन्मेंद्र (35) और सौरभ उर्फ कल्लू (17) रहते हैं। धन्मेंद्र बाहर रहकर मजदूरी करता था, जो कि कुछ दिनों पहले आया हुआ था।

घर में पुलिस तलाशी के दौरान फैला सामान
घर में पुलिस तलाशी के दौरान फैला सामान

चाची को घर लाने को लेकर चाचा-भतीजे में था विवाद
धन्मेंद्र की पत्नी अपने पति के चाल-चलन को देखते हुए 3 वर्ष पहले घर से नाराज होकर चली गई थी। सोमवार को धन्मेंद्र अपनी पत्नी को घर लाया, लेकिन पत्नी रहने को तैयार नहीं थी। इसको लेकर पति-पत्नी के बीच मारपीट हुई। भतीजे सौरभ को भी पसंद नहीं था कि उसकी चाची उसके साथ एक ही घर में रहे। इसका उसने कई बार विरोध भी किया।

चाचा के सीने में भतीजे ने मारी गोली
पड़ोस के लोगों ने बताया कि यह लोग शराब पीकर आपस में आए दिन झगड़ा करते थे। बुधवार की रात में जमकर विवाद हुआ और विवाद इतना बढ़ गया कि घर के बाहर भूतनाथ मंदिर प्रवेश द्वार के सामने भतीजे सौरभ उर्फ कल्लू ने अपने चाचा धन्मेंद्र को गोली मार दी, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई ।

घटना के बाद दरवाजे पर बैठे रिश्तेदार
घटना के बाद दरवाजे पर बैठे रिश्तेदार

परिवार का रहा हैं आपराधिक इतिहास
पुलिस ने आरोपी सौरभ को हिरासत में ले लिया है और मृतक धन्मेद्र का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मृतक धन्मेद्र के तीन बच्चे हैं। बड़ा बेटा अहम (7 वर्ष), बेटी अंसिम (10 वर्ष), बेटी आदू (5 वर्ष) की है। सूत्रों के मुताबिक परिवार का इतिहास आपराधिक किस्म का रहा है, जिसमें धन्मेंद्र भी कई मामलों में जेल जा चुका है ।

आपराधिक प्रवृत्ति को लेकर स्कूल से निकाला गया था सौरभ
वही सौरभ सरस्वती विद्या मन्दिर स्कूल में इंटर का छात्र रहा है। जिसकी आपराधिक प्रवृत्ति को देखते हुए उसे विद्यालय से निष्कासित किया जा चुका है। करीब 8 वर्ष पहले माता-पिता की मौत के बाद सौरभ अपने बाबा के साथ रहता था।

घटना के बाद से सौरभ के बाबा भी फरार हैं। गोला गोकर्णनाथ कोतवाल विवेक उपाध्याय के मुताबिक सौरभ के दस्तावेज खंगाले जा रहे हैं, उसको हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

खबरें और भी हैं...