पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोला गोकर्ण नाथ में सिर्फ 5 घंटे मिल रही बिजली:भीषण गर्मी से लोग परेशान, ग्रामीणों में आक्रोश, कारोबार प्रभावित

गोला गोकर्ण नाथ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

क्षेत्र में इन दिनों बिजली की अघोषित कटौती से लोग परेशान हैं। गोला गोकर्णनाथ के कई क्षेत्रों में रोजाना 4 से 5 घण्टे ही बिजली मिल पा रही है। बिजली आने-जाने का कोई निर्धारित समय नहीं है। शिकायत के बाद भी विभागीय अधिकारी तवज्जो नहीं दे रहे हैं। इससे क्षेत्रीय लोगों में आक्रोश है। बुधवार को इसी सम्बन्ध में भारतीय किसान यूनियन चढू़नी के प्रदेश महासचिव अमन दीप सिंह सन्धू ने विद्युत संकट को लेकर एसडीओ गोला को एक ज्ञापन सौंपा।

किसान नेता अमनदीप सिंह संधू का कहना है कि पहले सरकार ने तो लोगों को बिजली की आदत लगा दी, अब तो बिजली ही गुल कर दी। पहले हफ्ता चलता था तो लोग गर्मी से राहत पाने के लिए अपनी व्यवस्था कर लेते थे। ऐसी भीषण गर्मी में लोगों की नींद नहीं पूरी हो पा रही है। किसान फसलों की सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। वहीं, विद्युत विभाग के अधिकारी फोन तक नहीं उठाते ।

शिकायत के बाद भी नहीं होता समस्या का समाधान

गोला गोकर्णनाथ नाथ कस्बा निवासी अंशु वर्मा का कहना है कि वह कम्प्यूटर कोचिंग चलाते हैं। गोला में अघोषित बिजली कटौती के चलते इन्वर्टर की बैट्री भी बोल जाती है, जिससे कोचिंग पर भी प्रभाव पड़ रहा है। घर के अंदर भी भीषण गर्मी में बुरा हाल है। विद्युत विभाग के ट्विटर हैंडल पर शिकायत करने पर पूरी ईमानदारी के साथ शिकायत के समाधान का आश्वासन दिया जाता है, लेकिन हल किसी भी समस्या का नहीं होता।

बांकेगंज कस्बा निवासी रवि वर्मा का कहना है कि क्षेत्र में 4 से 5 घण्टे ही लाइट मिल पा रही है हम लोग तो ग्रामीण क्षेत्र में हैं और अपनी छत पर भी रात गुजार लेते हैं। लेकिन सबसे ज्यादा समस्या किराये के मकान में रहने वालों की है, जो कि इतनी भीषण गर्मी में अपने बच्चों के साथ रहते हैं।

लगातार 8 घंटे बिजली आपूर्ति की मांग

कुकरा के रहने वाले ग्राम प्रधान प्रतिनिधी मोहम्मद इरफान उर्फ पम्मी का कहना है कि प्रशासन को चाहिए कि बार-बार कटौती की अपेक्षा लगातार 8 घण्टे बिजली दे। जिससे कि घरों में लगे इन्वर्टर के बैट्री चार्ज हो जाए। बार-बार लाइट आने-जाने पर बैट्री सही से नहीं चार्ज हो पा रही है। जितना चार्ज भी होती है पुनः डाउन हो जाती है। साथ ही ओवर लोडिंग मामले में विभाग को चेकिंग अभियान चलाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...