पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57491.51-2.62 %
  • NIFTY17149.1-2.66 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486500.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64467-0.29 %

कुशीनगर में टूटेंगे उड़ान में बाधा बन रहे 72 मकान:मकान मालिकों की अधिकारियों से बैठक रही बेनतीजा, अब प्रशासन चलवाएगा बुलडोजर

कुशीनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कुशीनगर में टूटेंगे उड़ान में बाधा बन रहे 72 मकान। - Money Bhaskar
कुशीनगर में टूटेंगे उड़ान में बाधा बन रहे 72 मकान।

कुशीनगर में कुशीनगर अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा से उड़ान में बाधक बन रहे 72 मकानों को तोड़ने का प्रशासन ने निर्णय लिया है। इसके लिए एसडीएम समेत कई अधिकारियों के साथ मकान मालिकों की बैठक हुई। जोकि पूरी तरह से बेनतीजा निकली। ऐसे में प्रशासन ने अब सख्त रुख अपनाने का निर्णय लिया है।

पहले चरण में तोड़े जाएंगे 10 मकान

जिले के हवाई अड्डे के पास प्रथम चरण में उड़ान में रुकावट बन रहे मुख्य 10 भवन ध्वस्त किए जाएंगे। प्रशासन कभी भी इन भवनों पर बुलडोजर चला सकता है। यह कार्रवाई कुशीनगर विशेष क्षेत्र प्राधिकरण (कसाडा) के नियमों के तहत की जाएगी।एसडीएम वरुण कुमार पांडे व तहसीलदार मंधाता प्रताप सिंह ने भलुही मदारी पट्टी के भवन स्वामियों से घंटों बात की लेकिन कोई हल नहीं निकल सका। भवन स्वामी भूमि के बदले भूमि की मांग पर अढ़े रहे। जबकि तहसील प्रशासन केवल प्रतिकर देने की बात कर रहा है।

डायरेक्टर जनरल सिविल एविएशन ने दिए निर्देश

एयरपोर्ट की जांच में डायरेक्टर जनरल सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने उड़ान में बाधक बन रहे बेलवा दुर्गाराय एवं भलुही मदारी पट्टी के कुल 72 मकानों को हटाने के लिए एयरपोर्ट ऑथारिटी आफ इंडिया को निर्देश दिया है। ऑथारिटी ने इन भवनों को हटाने की मांग प्रशासन के सामने रखी। इस बीच एयरपोर्ट का उद्घाटन होने के बाद 26 नवंबर से शुरू होने जा रही उड़ान को देखते हुए प्रशासन ने कार्रवाई तेज की है।

भवन स्वामी बोले- बातचीत का कोई मतलब नहीं

भवन स्वामियों से वार्ता करने पहुंचे एसडीएम के सामने भवन स्वामी बैद्यनाथ दूबे, रमाशंकर दूबे, अशोक लाल श्रीवास्तव, अंबरीश लाल श्रीवास्तव, अक्षयबर दूबे, श्रीकांत प्रजापति, जगलाल प्रजापति, वरुण श्रीवास्तव आदि ने भूमि के बदले भूमि की मांग की है। अन्य कोई भी विकल्प मानने से इन्कार कर दिया। उनका कहना था कि भवन का प्रतिकर तो प्रशासन दे रहा है लेकिन भवन बनाने के लिए भूमि नहीं दे रहा। ऐसे में बातचीत का कोई मतलब नहीं है।

कसाडा के नियमों के तहत होगी कार्रवाई

एसडीएम व कसाडा सचिव वरुण कुमार पाण्डेय ने बताया कि अब भूमि स्वामियों से कोई वार्ता नहीं होगी। प्रथम चरण में 10 मकानों को ध्वस्त किया जाएगा। कसाडा के नियमों के तहत अन्य कार्रवाई भी होगी।