पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कुशीनगर में सीएम का आदेश बेअसर:अवैध स्टैंड धड़ल्ले से संचालित, आदेश पर भी नहीं चला कोई अभियान

कुशीनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कुशीनगर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को आदेश दिया था कि प्रदेश के सभी जिलों में संचालित अवैध स्टैंड को तत्काल रोका जाय। माफिया, अराजक, दलाल प्रकृति के लोगों को स्टैंड से भगाया तथा अवैध वाहन किसी कीमत पर न चलने दिया जाए। इसमें अगर लापरवाही हुई तो स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों की जवाब देही तय की जाएगी।

कुशीनगर में मुख्यमंत्री के आदेश का कोई असर नहीं दिखा। हर कस्बे में करीब आधा दर्जन अवैध स्टैंड आज भी संचालित है। माफिया, अराजक तत्व व दलाल प्रवृति के लोग गुंडागर्दी के दम पर रोज हजारों की वसूली कर रहे है।

मुख्यमंत्री ने दिया था आदेश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश को दरकिनार कर जिले के कस्बों में अवैध स्टैंड संचालित हो रहा है। सूत्रों की माने तो आपराधिक परिवृत के लोग पुलिस के सह पर अपना सिक्का कायम कर अवैध स्टैंड संचालित कर रहे है। इन अराजक तत्वों पर मुख्यमंत्री के आदेश का कोई भय नहीं है। तमकुहीराज कस्बा का नगर पंचायत के रूप में मान्यता मिलने के बाद वर्ष 21-22 में स्टैंड की नीलामी हुई थी।

तमाम शिकायत के बाद वसूली पर रोक लगा दी गयी। स्टैंड की वसूली पर रोक लगने के बाद आपराधिक किस्म के लोग पुलिस को मिलाकर अवैध रूप से स्टैंड अड्डा बनाकर अवैध वसूली शुरू कर दिये। सालों पूर्व से हो रही अवैध वसूली पुलिस व अराजक तत्वों के गठजोड़ का परिणाम है। अवैध स्टैंड के खिलाफ बोलने की किसी की हिम्मत नहीं होती है। क्योंकि अराजक तत्व झगड़ा पर भी उतारू हो जाते है।

अवैध वसूली का आरोप

सूत्रों की माने तो अवैध स्टैंड से प्रति दिन हजारों की वसूली होती है। पुलिस व अराजक तत्वों में बराबर का हिस्सा लगता है। अवैध स्टैंड से हो रही काली कमाई कई लोगों के लिए वरदान साबित होता है। क्योंकि इसी कमाई से घरद्वार भी सज कर चमक रहा है।

सूत्र यह भी बताते है कि अकेले तमकुहीराज से गोपालगंज वाली अवैध स्टैंड से प्रति दिन 3 से 4 हजार की अवैध वसूली पुलिस का डर दिखा कर किया जाता है। जो चालक स्टैंड का पैसा देने में आनाकानी करता है तो पहले उसकी पिटाई की जाती है। बाद में गाड़ी का चालान भी होता है। अब देखना है कि स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों का क्या रुख होता है। इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी तमकुहीराज से पक्ष जानने का प्रयास किया गया इस पर कोई बोलने तैयार नहीं।

आश्चर्य तो तब हुई जब पुलिस के छोटी से छोटी अच्छाई को पुलिस मीडिया सेल द्वारा प्रचार प्रसार किया जाता था पर मुख्यमंत्री के आदेशों के सापेक्ष कुछ नहीं दिखा। जब हमने जिले के कई थानाक्षेत्र मे पता कराया तो मुख्यमंत्री के आदेशों का कहीं असर नहीं दिखा।

खबरें और भी हैं...