पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57200.23-0.13 %
  • NIFTY17101.95-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47875-1.15 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61247-2.76 %

स्कूलों के आसपास नहीं होंगी पान मसाले की दुकानें:कुशीनगर में जिला प्रशासन जल्द चलाएगा जागरूकता अभियान, 100 मीटर के दायरे में दुकान लगाने पर होगी कड़ी कार्रवाई

कुशीनगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूलों के आसपास नहीं होंगी पान मसाले की दुकानें। - Money Bhaskar
स्कूलों के आसपास नहीं होंगी पान मसाले की दुकानें।

कुशीनगर में जिला प्रशासन ने बच्चों को ड्रग्स एवं अन्य नशीले पदार्थों से दूर करने के लिए उसकी बिक्री तथा अवैध ट्रैफिकिंग रोकने का फैसला किया है। जिसके लिए जिले के समस्त विभागों के सहयोग से जन जागरूकता अभियान चलाएं जाने का फैसला लिया है। साथ ही जिले के सभी शैक्षणिक संस्थानों के सौ मीटर के दायरे में किसी भी प्रकार के ऐसे पदार्थों की बिक्री पर पूर्ण रुप से रोक लगाने के निर्देश जारी किए गए हैं। साथ ही ऐसा करने वालों पर कड़ी सजा की भी योजना हैं।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की तरफ से की जा रही पहल
जिले में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग भारत सरकार के निर्देश पर प्रशासन ने बच्चों में बढ़ रहे पान, गुटखा, सिगरेट, तंबाकू, शराब, ड्रग्स एवं अन्य मादक पदार्थों पर रोक लगाने को लेकर कई विभागों की एक साथ बैठक की है। उन्हें रोकने की रणनीति तय की गई हैं। जिसमें जिले के सभी स्कूलों के सौ मीटर के दायरे में सभी पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाने का फैसला लेते हुए निर्देश जारी किए गए।

सीसीटीवी के जरिए रखी जाएगी नजर
जिला प्रशासन ने पुलिस क्षेत्राधिकारी सदर को एक टीम गठित करने के लिए निर्देश किया है। जिले की फार्मेसी की सभी दुकानों पर, शैक्षणिक संस्थानों के मुख्य द्वार पर सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की विशेष व्यवस्था भी करने का निर्देश संबंधित विभागों को दिया गया है। औषधि निरीक्षक एवं खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन को टीम गठित कर पूरे जनपद में मेडिकल एवं फार्मेसी की दुकानों की रेंडम चेकिंग करने का आदेश मिला ।
बच्चों को मादक पदार्थ बेचा तो होगी जेल
जिला आबकारी विभाग एवं अधिशासी अधिकारी नगर पालिका व नगर पंचायत को सार्वजनिक स्थलों पर एवं पान गुटखा, तंबाकू, शराब आदि की दुकानों पर इस आशय का बैनर लगवाने का निर्देश दिया गया हैं। साथ ही जिला प्रशासन की तरफ से कहा गया कि कोई व्यक्ति बच्चों को मादक पदार्थ की बिक्री करते हुए पाया जाता है। तो उसे सात साल की कैद और एक लाख तक जुर्माने की सजा होगी।

खबरें और भी हैं...