पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कुशीनगर में छठ पर्व का शुभारंभ:रात में छठ्ठ मां के दर्शन करेंगे श्रद्धालु, बंगाल के कारीगरों ने 1 महीने में बनाई है भव्य प्रतिमा

कुशीनगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
4 दिवसीय महाअनुष्ठान को लेकर जिला प्रशासन और स्थानीय छठ्ठ पूजा समितियां तैयारियों को अंतिम रूप दे रही हैं। - Money Bhaskar
4 दिवसीय महाअनुष्ठान को लेकर जिला प्रशासन और स्थानीय छठ्ठ पूजा समितियां तैयारियों को अंतिम रूप दे रही हैं।

कुशीनगर में आस्था का महापर्व छठ्ठ को लेकर तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। आज से लोक आस्था का महापर्व छठ की शुरुआत होगी। लोग घाटों पर अपने अपने छठ वेदियों की सफाई व उसकी रंगाई पुताई कर रहे हैं।

4 दिवसीय इस महा अनुष्ठान को लेकर जिला प्रशासन और स्थानीय छठ्ठ पूजा समितियां तैयारियों को अंतिम रूप दे रही हैं। कप्तानगंज नगर पंचायत में मां अंबे छठ सेवा समिति द्वारा बनाए गए छठ माता की प्रतिमा भी इस बार आकर्षण का केंद्र बनेगी जिसके लिए पंडाल और मूर्ति के सजावट की तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं।

नगर पंचायत कप्तानगंज के मां अंबे छठ सेवा समिति द्वारा लगभग 80 हजार रुपए की लागत से बने पंडाल और मूर्ति जिसमें मां छठ और सूर्य देव की प्रतिमा बनवाई गई है।
नगर पंचायत कप्तानगंज के मां अंबे छठ सेवा समिति द्वारा लगभग 80 हजार रुपए की लागत से बने पंडाल और मूर्ति जिसमें मां छठ और सूर्य देव की प्रतिमा बनवाई गई है।

80 हजार से बनी प्रतिमा और पंडाल

आज देर शाम मां छठ्ठ के नेत्र पटल सह मूर्तियों के साथ खोले जाएंगे। नगर पंचायत कप्तानगंज के मां अंबे छठ सेवा समिति द्वारा लगभग 80 हजार रुपए की लागत से बने पंडाल और मूर्ति जिसमें मां छठ और सूर्य देव की प्रतिमा बनवाई गई है, आकर्षण का केंद्र बनी रहेगी।

रात को खोले जाएंगे आंख पटल

समिति के लोगों ने बताया 15 साल से हम छठ पूजा में मा छठ की मूर्ति रखते हैं। इस बार जो छठ प्रतिमा रखी जा रही है वह काफी भव्य और आकर्षण पूर्ण है। मां छठ की इस प्रतिमा को बनाने के लिए बंगाल से आए हुए कारीगर 1 महीने से लगातार काम कर रहे हैं और अब यह बंद कर पूर्ण हो चुकी है जिसके आंख पटल सोमवार की रात में खोले जाएंगे जिसके बाद श्रद्धालु इस के दर्शन कर सकते हैं।

श्रद्धालुओं के सुरक्षा और सुविधा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सीसीटीवी कैमरे से पूरे मेले पर प्रशासन और सेवा समिति के सदस्यों की नजर रहेगी।
श्रद्धालुओं के सुरक्षा और सुविधा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सीसीटीवी कैमरे से पूरे मेले पर प्रशासन और सेवा समिति के सदस्यों की नजर रहेगी।

50,000 से ज्यादा श्रद्धालु आएंगे

श्रद्धालुओं के सुरक्षा और सुविधा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सीसीटीवी कैमरे से पूरे मेले पर प्रशासन और सेवा समिति के सदस्यों की नजर रहेगी। हर साल यहां 50,000 से ज्यादा की तादाद में श्रद्धालु आते है। छठ पर्व को लेकर बाजारों में भी रौनक बढ़ गई है। लोग सूप डाल टोकरी फल आदि लेने के लिए अब घरों से निकल रहे हैं।

चार दिन ये होंगे कार्यक्रम

  • सोमवार को नहाए खाए के साथ छठ का पर्व शुभारंभ किया जाएगा।
  • मंगलवार की संध्या को प्रसाद ग्रहण किया जाएगा । खरना कि प्रसाद ग्रहण करने के पश्चात छठ व्रतियों द्वारा 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू करेंगी।
  • बुधवार की संध्या डूबते सूर्य को छठ पर्व का पहला अर्घ दिया जाएगा।
  • गुरुवार की सुबह उगते हुए सूर्य को छठ व्रतियो द्वारा अर्घ देकर उपवास संपन्न करेंगे।
  • कठिन तपस्या के दौरान मां छठ से महिलाएं अपने बेटों की सलामती सुखमय जीवन और स्वास्थ्य की कामना करेंगी। जिनके मन्नते पूरी हो जाती हैं वे मनौती के अनुसार छठ्ठ के दिन कुम्हारों के घर से लाए कोसी (घड़े पर दीपक लगी) से छठ माता की आराधना करते हुए कोसी की भराई का रस्म पूरा करती हैं।