पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चिकित्सा की बदहाली पर उपमुख्यमंत्री का एक्शन:कुशीनगर में ट्विटर पर मिली शिकायत पर की कार्रवाई, सीएचसी प्रभारी का हुआ तबादला

कुशीनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Money Bhaskar
फाइल फोटो।

कुशीनगर के फाजिलनगर सीएचसी में अपनी दादी का इलाज करने पहुंचे युवक ने वहां की अव्यवस्था की शिकायत उप मुख्यमंत्री से कर दी। ट्विटर पर मिली शिकायत को गम्भीरता से लेते हुए उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने सीएमओ को जांच के निर्देश दिए। सीएमओ की जांच में आरोपों में सत्यता मिली और सीएचसी प्रभारी को स्थानांतरित कर दिया गया। जिसकी जानकारी उपमुख्यमंत्री ने ही अपने ट्विटर हैंडल से दी।

दादी का इलाज करवाने गया था पीड़ित

जिले के कुचिया मठिया निवासी जितेंद्र प्रजापति अपने दादी दूखनि देवी का इलाज कराने बीते 05 मई को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फाजिलनगर आए थे। मरीज को देखने के बाद डॉक्टर ने जांच लिख दिया और कहा कि जांच रिपोर्ट देखने के बाद ही दवा लिखा जाएगा। जितेंद्र ने बताया कि जब मैं अपने दादी का जांच कराने अस्पताल के अन्य काउंटर पर पहुंचा तो कर्मचारियों द्वारा बताया गया कि पर्ची में लिखे जांच की सुविधा सीएचसी में नहीं है। ईसीजी व अल्ट्रासाउंड की जांच लिखी गयी थी। परिमाण स्वरूप जितेंद्र ने इसके बाद एक निजी जांच केंद्रों से जांच कराकर डॉक्टर को दिखाया।

अव्यवस्था मिलने पर डिप्टी सीएम से की थी शिकायत।
अव्यवस्था मिलने पर डिप्टी सीएम से की थी शिकायत।

जितेंद्र के ट्वीट पर पांच घण्टे बाद उपमुख्यमंत्री बृजेश की तरफ से जबाब आया कि "CHC, फाजिलनगर में अव्यवस्थाओं एवं जांच हेतु सुविधा उपलब्ध न होने संबंधी सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए मैंने CMO, फाजिलनगर को स्पष्टीकरण सहित रिपोर्ट 3 दिन के अंदर उपलब्ध कराए जाने हेतु आदेश दिये हैं।"

उप मुख्यमंत्री ने शिकायत मिलने पर सीएमओ को दिया जांच का आदेश।
उप मुख्यमंत्री ने शिकायत मिलने पर सीएमओ को दिया जांच का आदेश।

जितेंद्र ने 11 जून को अपनी दादी के नाम की पर्ची लगते हुए उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक से ट्वीट कर शिकाय की। जितेंद्र ने लिखा "माननीय @brajeshpathakup जी अपने दादी को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फाजिलनगर गया था। डॉक्टर ने जांच लिखा जो पर्ची पर निम्नलिखित है, लेकिन कोई जांच यहां संभव नही है। आखिर कैसे आम जनता का इलाज संभव है ? न अल्ट्रासाउंड, न ब्लड जांच, न एक्सरे, न ECG इत्यादि ।"

CHC फाजिलनगर के प्रभारी को स्थानांतरित कर दिया गया।
CHC फाजिलनगर के प्रभारी को स्थानांतरित कर दिया गया।

उपमुख्यमंत्री से शिकायत के जबाब जे बाद कोई कार्रवाई न होता देख जितेंद्र ने पुनः एक बार 14 जून को उपमुख्यमंत्री को मामले का रिमाइंडर करते हुए लिखा। आशा करता हूं कि CMO कुशीनगर द्वारा CHC फाजिलनगर का स्पष्टीकरण सहित रिपोर्ट उपलब्ध हो गया होगा। CHC फाजिलनगर में जांच हेतु कौन कौन से सुविधाएं उपलब्ध है ? धरातल पर कोई जांच उपलब्ध नहीं है सिर्फ कागज में तो नहीं।

उपमुख्यमंत्री के इस जबाब के बाद आम लोग उनकी तारीफ कर रहे।
उपमुख्यमंत्री के इस जबाब के बाद आम लोग उनकी तारीफ कर रहे।

जितेंद्र के रिमाइंडर के बाद 18 जुन को उपमुख्यमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल से जानकारी देते हुए लिखे की "CHC,फाजिलनगर,जनपद कुशीनगर में चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध होने के बावजूद चिकित्सक द्वारा बाहर से जांच व दवाई लिखने के संबंध में दोषी चिकित्सक के विरुद्ध जांचकर कार्रवाई हेतु CMO,कुशीनगर को मेरे द्वारा दिए गए आदेशों के क्रम में उक्त दोषी चिकित्सक का तत्काल स्थानांतरण कर दिया गया है। उपमुख्यमंत्री के इस जबाब के बाद आम लोग उनकी तारीफ कर रहे। वहीं चिकित्सकों में इस कार्रवाई की चर्चा चल रही। लेकिन अब देखना होगा कि इसका कितना असर और कब तक बना रहता हैं।

खबरें और भी हैं...