पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

छात्र से मोबाइल छीनकर भागे बदमाश:कौशांबी में बीए की परीक्षा देकर जा रहा था घर, 13 हजार रुपये में खरीदी थी मोबाइल

कौशांबी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छात्र ने पुलिस ने को लिखा शिकायती पत्र। - Money Bhaskar
छात्र ने पुलिस ने को लिखा शिकायती पत्र।

कौशांबी के सराय अकिल कोतवाली के जयंतीपुर डिग्री कॉलेज के पास छात्र से मोबाइल की छिनैती की वारदात सामने आई है। शनिवार को छात्र बीए की परीक्षा देकर बात करते हुए घर जा रहा था। तभी पीछे से आए बाइक सवार बदमाशों ने पीड़ित को धक्का देकर उसका मोबाइल हाथ से छीनकर फरार हो गया। पीड़ित ने कोतवाली पुलिस को मोबाइल छीने जाने की तहरीर दी। पीड़ित का आरोप है कि पुलिस कर्मियों ने छिनैती की वारदात को हटा कर मोबाइल गुम होने की तहरीर लिखकर केस दर्ज किया।

सराय अकिल के बेरौचा गांव निवासी पुरुषोत्तम का बेटा नितीश बीए का छात्र है। उसकी इन दिनों स्नातक प्रथम वर्ष की परीक्षा चल रही है। नितीश राम सजीवन डिग्री कॉलेज जयंतीपुर मे पढ़ाई करता है। सुबह नितीश बीए की परीक्षा देकर 11 बजे कॉलेज से बाहर निकला। घरवालों ने परीक्षा के बारे मे पूछने को फोन लगाया।

छात्र द्वारा लिखा गया शिकायती पत्र।
छात्र द्वारा लिखा गया शिकायती पत्र।

13 हजार रुपये में खरीदा था मोबाइल
नितीश घरवालों से बात करते हुए सराय अकिल प्रयागराज मार्ग पर पैदल घर जाने लगा। इसी दौरान पीछे से बाइक सवार बदमाश आए और नितीश को धक्का मार उसका मोबाइल हाथ से छीन लिया। जब तक नितीश को कुछ समझ आता बदमाश बाइक से फरार हो गए। नितीश ने 13 हजार रुपये का मोबाइल खरीदा था। पीड़ित नितीश हैरान होकर कोटवालई पुलिस के पास छिनैती की तहरीर लेकर पहुंचा।

पुलिस ने गुम होने की लिखी तहरीर
पुलिस ने तहरीर देखते ही छात्र नितीश को खूब खरी खोटी सुनाई। आरोप है कि पुलिस कर्मियों ने नितीश से छिनैती की बात तहरीर से हटाकर मोबाइल गुम होने की शिकायत करने को कहा। काफी मान मनौवल के बात भी पुलिस केस दर्ज करने को तैयार नहीं हुई। जिसके बात पीड़ित ने दूसरी तहरीर लिख कर पुलिस को दी। जिस पर केस दर्ज किया गया।

पुलिस की लिखी गई तहरीर।
पुलिस की लिखी गई तहरीर।

इंस्पेक्टर सराय अकिल सुनील सिंह ने बताया कि बीए के छात्र के मोबाइल संबंधी प्रकरण करने आया है। वास्तविकता की जांच के लिए सब इंस्पेक्टर को जांच सौंपी गई है। तहरीर बदलवाए जाने की बात सही नहीं है। पीड़ित ने जो तहरीर दी है। उसी के आधार पर केस दर्ज किया गया है।