पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्कूल में सिखाए गए आपदा से बचने के तरीके:कौशांबी में बच्चों को मिला बाढ़,भूकंप से बचने का प्रशिक्षण , साथ ही बांटी गई सहायक किताब

कौशांबी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कौशांबी में  स्कूल में बच्चों को सिखाए गए प्राकृतिक आपदा से बचने के तरीके। - Money Bhaskar
कौशांबी में स्कूल में बच्चों को सिखाए गए प्राकृतिक आपदा से बचने के तरीके।

कौशांबी में कड़ा बीएआरसी के सैरई बुजुर्ग गांव के सरकारी स्कूल मे शनिवार को आपदा प्रबंधन की क्लास चलाई गई। बच्चे भी बड़े शौक से हुनर को सीखते दिखे। यह पाठशाला मुख्यमंत्री सुरक्षा कार्यक्रम के तहत चलाई गई। इसमें प्रमुख तौर पर आकाशीय बिजली, सर्प दंश, भूकंप एवं आग लगने की दशा मे खुद और दूसरों की जीवन की रक्षा के तरीके प्रैक्टिस करवाए गए।

टाइम्स सेंटर फॉर लर्निंग लिमिटेड ने दी ट्रेनिंग
जिले के सौरई बुजुर्ग के सरकारी स्कूल में बच्चों की शनिवार को आपदा काल मे आने वाली परेशानियों से जीवन को सुरक्षित रखने का हुनर सिखाया गया। मुख्यमंत्री सुरक्षा कार्यक्रम मे तहत टाइम्स सेंटर फॉर लर्निंग लिमिटेड संस्था ने बच्चों को किताब के माध्यम से बताया।

बच्चों के सामने किया गया नाट्य रूपांतरण
इस दौरान स्कूल टीचरों एवं संस्था के एक्सपर्ट की देख रेख मे बच्चों के सामने आपदा का नाट्य रूपांतरण कर उन्हें सिखाया गया। प्रशिक्षक श्रवित ने बताया कि आपदा आने पर घबराने की जगह तरीके से डटकर मुकाबला करना चाहिए। बाढ़ के दौरान प्रभावित गांवों के लोगों को टॉर्च, किरासन तेल, रेडियो, दवा, इमरजेंसी लाइट, सूखे अनाज आदि का प्रबंध कर लेना चाहिए। प्राकृतिक आपदाओं को रोका नहीं जा सकता लेकिन कम से कम क्षति हो इसके लिए उपाय कर सकते हैं। बच्चों को पानी में डूबने से बचाव, भूकंप से बचाव के लिए कहा कि बच्चों को सर्वप्रथम अपने सर को बचाने का प्रयास करना चाहिए। भूकंप के समय लिफ्ट का प्रयोग नहीं करना है। बिजली गिरने की अवस्था में पैर के पंजे पर बैठ कर कानों को बंद कर ले।

50 सहायक पुस्तिका का किया गया वितरण
कार्यक्रम के अंत मे प्रशिक्षक ने बच्चों के मध्य मुख्यमंत्री स्कूल सुरक्षा कार्यक्रम से सम्बन्धी 50 सहायक पुस्तिका का वितरण किया जिसे छात्र पढ़ने के बाद दूसरे छात्र को देगा जिससे विद्यालय के सभी बच्चे आपदा सहायक पुस्तिका से ज्ञान अर्जित कर सकें।

खबरें और भी हैं...