पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कलेक्ट्रेट से तहसील तक बाबुओं का विभाग बदला:3 साल अधिक समय से अंगद की तरह जमाए बैठे थे पैर, किसी को मिली मलाईदार कुर्सी तो किसी के हिस्से ड्राई पटल

कौशांबी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कौशांबी जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने सोमवार की शाम जारी आदेश मे 19 पटल सहायक बाबुओं के कार्यक्षेत्र के परिवर्तन किया है। जिन पटल का परिवर्तन किया गया है। उन पर कोरोना काल से पहले बाबुओं के कार्यक्षेत्र में बदलाव नहीं हुआ था। बताया जा रहा है कि कलेक्ट्रेट से तहसील मे तैनात पटल सहायक लंबे अरसे से एक ही कुर्सी पर अंगद की तरह पैर जमाए हुए थे। डीएम के आदेश की सूची जारी होने के बाद बाबुओं मे कही खुशी काही गम जैसे हालत है।

ग्रुप सी के कर्मचारियों का पटल परिवर्तन किया गया
शासन के निर्देश पर जिलाधिकारी कार्यालय से जारी आदेश के क्रम मे ग्रुप सी के कर्मचारियों का पटल परिवर्तन किया गया है। जिसमें बताया गया कि पटल सहायक एक पटल पर 3 से अधिक समय से काम कर रहे थे। कलेक्ट्रेट स्तर की तबादला सूची के पहले चरण मे 19 बाबुओं के कार्यक्षेत्र मे परिवर्तन किया गया है।

इन लोगों को पटल बदला।
इन लोगों को पटल बदला।

विभागीय सूत्रों के अनुसार मलाईदार कुर्सी हासिल करने मे रमाकांत पटेल का नाम सबसे ऊपर है। वह अब तक रीडर जिलाधिकारी थे। जिन्हें आरआरके व खनन लिपिक की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके अलावा अरविंद कुमार सिंह को आपदा लिपिक, सुनील कुमार मिश्रा को एसीआरए (सहायक मुख्य राजस्व लेखाकार) की जिम्मेदारी दी है। सूची की सबसे अंतिम लाइन मे अंगद सिंह को ई आर की से हटा कर विनियमित क्षेत्र एवं वीआईपी लिपिक बनाया गया है। इसके अलावा तबादला सूची मे श्याम बिहारी, भानु प्रताप सिंह, दिनई लाल, सुरेश सिंह को महत्वपूर्ण कुर्सियों से उतर कर प्रभाव वाली कुर्सी दी गई है।

डीएम सुजीत कुमार ने बताया, कलेक्ट्रेट व तहसील के समूह ग के कर्मचारियों का शासन के निर्देश पर पटल परिवर्तन किया गया है। ट्रांसफर सूची के शामिल लिपिक गणो को जल्द से जल्द अपने कार्यक्षेत्र की जिम्मेदारी लेने का आदेश जारी किया गया है।

खबरें और भी हैं...