पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संकट में कौशांबी जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी!:नाराज सदस्यों ने खोला मोर्चा, बोले- 6 महीने से नहीं हुई बैठक, क्षेत्र का नहीं हो रहा विकास

कौशांबी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला पंचायत कौशांबी एक बार फिर सुर्खियों में है। वजह पिछले 6 माह से सदन की बैठक न होना बताया जा रहा है। बैठक न होने से नाराज जिला पंचायत सदस्यों ने शुक्रवार की शाम मुख्यालय के एक निजी होटल मे आपात बैठक बुलाकर अध्यक्ष कल्पना सोनकर के खिलाफ अविश्वास लाने की रणनीति तैयार की। इस दौरान सदस्यों से अपर मुख्य अधिकारी को अपनी मांगों का ज्ञापन भी सौपा।

जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ सदस्यों ने खोला मोर्चा।
जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ सदस्यों ने खोला मोर्चा।

6 महीने से नहीं हुई बैठक
जिला पंचायत की निर्वाचन प्रक्रिया के बाद से नियमानुसार पिछले 6 माह से अध्यक्ष कल्पना सोनकर ने कोई बैठक नहीं बुलाई। जिसके चलते निर्वाचित हुए 29 सदस्य अपने अपने निर्वाचन क्षेत्र की जनता का विकास नहीं कर पा रहे है। आरोप है कि क्षेत्र का विकास न होने से जनता क्षेत्रीय प्रतिनिधियों पर सवाल उठाने लगी है। सदन की बैठक न होने से विकास का कोई भी काम संचालित नहीं हो पा रहा है।

शुक्रवार को जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि पति जितेंद्र सोनकर के अड़ियल रवैये से नाराज क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने मुख्यालय के एक निजी होटल मे आपात बैठक बुलाई। बैठक मे क्षेत्रीय समस्या पर विचार कर जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी वीरेंद्र कुमार को सदन की कार्रवाई, बैठक एवं क्षेत्रीय विकास के मुद्दों से जुड़ा ज्ञापन 29 सदस्यों ने सामूहिक रूप से सौपा।

निजी होटल मे आपात बैठक की।
निजी होटल मे आपात बैठक की।

महज कागजी कोरम पूरा करा रहे अध्यक्ष प्रतिनिधि
नाराज़ सदस्यो का आरोप है कि अध्यक्ष प्रतिनिधि जितेंद्र सोनकर बिना बैठक कराए कागजी कोरम पूरा करा कर रहे है। जिससे उनके क्षेत्र की जनता विकास की मुख्य धारा से दूर होती जा रही है। उन्होंने अध्यक्ष कल्पना सोनकर को हटाए जाने के संबंध मे बैठक कर एजेंडा तैयार कर रहे है। जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि जितेंद्र सोनकर ने बताया कि पार्टी संगठन के कार्यों मे व्यस्तता होने के चलते बैठक नहीं कराई जा सकी। जल्द नियमानुसार बैठक करा कर विकास के एजेंडे पर चर्चा सदस्य कर सकेगे।

खबरें और भी हैं...