पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंतरिक्ष और खगोल विज्ञान में दो नए विभागों हुए स्थापित:IIT कानपुर मे पिछले चार वर्षों में विभागों की संख्या 14 से हुई 20

कानपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईआईटी कानपुर द्वारा शुरू किए - Money Bhaskar
आईआईटी कानपुर द्वारा शुरू किए

IIT कानपुर में अब खगोल विज्ञान व अंतरिक्ष के साथ डिजाइन की भी पढ़ाई हो सकेगी। संस्थान में इसके लिए दो नए विभागों की स्थापना की गई। जिसकी अनुमति 12 जनवरी को हुई बोर्ड ऑफ गवर्नेंस में मिल गई हैं। एकेडमिक सीनेट में पास होने के बाद यह फैसला हुआ। अब संस्थान में कुल 20 विभागों में अलग-अलग पाठ्यक्रम में छात्र-छात्राओं को पढ़ाया जाएगा। चार साल पहले तक संस्थान में सिर्फ 14 विभाग थे।

दो नए प्रोग्राम शुरू किए जाएगा...
आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो अभय करंदीकर ने जानकारी देते हुए बताया, इस संस्थान में बने नए विभाग डिजाइन के निर्माण के साथ ही संस्थान वर्ष 2023 की शुरुआत में एक बैचलर ऑफ डिजाइन प्रोग्राम शुरू करने की तैयारी कर। इसमें मास्टर ऑफ डिजाइन प्रोग्राम को विस्तार होगा। इस विभाग लीड प्रो नचिकेता तिवारी करेंगे। उनके अंडर में नए उत्पाद अवधारणा और विकास, उत्पाद डिजाइन, इंजीनियरिंग डिजाइन, ब्रांडिंग, उपयोगकर्ता-अनुभव और पैकेजिंग के क्षेत्रों में उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक डिजाइन सेल भी होगा। विभाग अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित डिजाइन स्कूलों जैसे स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, ऑल्टो यूनिवर्सिटी और जॉर्जिया टेक के साथ समझौता करेगा।

अंतरिक्ष विज्ञान का भी कोर्स...
अंतरिक्ष विज्ञान और खगोल विज्ञान विभाग अंतरिक्ष, ग्रह, खगोल विज्ञान और इंजीनियरिंग के व्यापक क्षेत्र के लिए समर्पित होगा। यह इंस्ट्रूमेंटेशन जैसे अंतरिक्ष मिशन और खगोलीय वेधशालाओं, अंतरिक्ष यान डिजाइन और अंतरिक्ष मिशन योजना आदि के लिए अनुसंधान के कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रों में शिक्षा, प्रशिक्षण और अनुसंधान की बढ़ती आवश्यकता को पूरा करने के लिए इंजीनियर, खगोलविद, खगोल भौतिकीविदों और ग्रह वैज्ञानिकों को एक साथ लाने के लिए भारत में अपनी तरह का पहला विभाग होगा। विभाग कई अनसुलझे सवाल जैसे क्या बाहरी अंतरिक्ष में जीवन है, क्या अन्य ग्रह रहने योग्य हैं, ब्लैक होल के पीछे का विज्ञान, क्षुद्र ग्रहों का खनन किया जा सकता है या नहीं को सुलझाने में मदद करेगा।