पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58649.681.76 %
  • NIFTY17469.751.71 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479790.62 %
  • SILVER(MCX 1 KG)612240.48 %

कानपुर...बाइक से इमरजेंसी तक पहुंचा मरीज:जिला अस्पताल में नहीं मिला स्ट्रेचर तो बाइक पर ही प्लास्टर कटवाने डॉक्टर के पास ले गया बेटा

कानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उर्सला अस्पताल में सोमवार को एक मरीज को नहीं मिला स्ट्रेचर, बाइक से पहुंचा इमरजेंसी। - Money Bhaskar
उर्सला अस्पताल में सोमवार को एक मरीज को नहीं मिला स्ट्रेचर, बाइक से पहुंचा इमरजेंसी।

कानपुर के यूएचएम (उर्सला) जिला अस्पताल का एक हैंरतअगेंज मामला सामने आया है। यहां एक तीमारदार बेटा आपने पिता का प्लास्टर कटवाने पहुंचा। इमरजेंसी तक उसे न तो व्हील चेयर उपलब्ध कराई गई और न ही स्ट्रेचर। ऐसे में मजबूर बेटा अपने पिता को बाइक पर ही बैठाकर इमरजेंसी तक पहुंचा। हालांकि, अस्पताल के किसी भी कर्मचारी ने उन्हें नहीं रोका।

नहीं सुधरता शहर का स्वास्थ्य सिस्टम...
शासन के लाख निर्देशों के बावजूद जिला अस्पताल उर्सला का सिस्टम सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। मरीजों को स्ट्रेचर तक नहीं मिल पा रहा है। ऐसे ही आलम रोजाना देखने को मिलते हैं। इमरजेंसी हो या ओपीडी...मरीजों को एक वार्ड से दूसरे में शिफ्ट करने के लिए तीमारदार को ई-रिक्शे का प्रयोग करना पड़ रहा है।

26 अगस्त को मरीज फ्रैक्चर के चलते ई-रिक्शा से माता-पिता के साथ हैलेट अस्पताल पहुंचा था।
26 अगस्त को मरीज फ्रैक्चर के चलते ई-रिक्शा से माता-पिता के साथ हैलेट अस्पताल पहुंचा था।

स्ट्रेचर और व्हीलचेयर न मिलना कानपुर के अस्पतालों की आम बात...
हाल ही में एक ऐसी ही घटना जिले के हैलेट अस्पताल से सामने आई थी। यहां 26 अगस्त को बाबूपुरवा निवासी अजय पैर में फ्रैक्चर के चलते ई-रिक्शा से माता-पिता के साथ हैलेट अस्पताल पहुंचा था। यहां काफी देर तक स्ट्रेचर न मिलने के बाद माता-पिता के कंधों के सहारे ओपीडी तक पहुंचा। इसके बाद उसे उपचार मिल सका था।

हैलट इमरजेंसी में भी स्ट्रेचर गायब।
हैलट इमरजेंसी में भी स्ट्रेचर गायब।

इसी तरह एक दूसरी मरीज कुसुम लता वर्मा के साथ हुआ। उनके पैर में भी फ्रैक्चर हुआ था। जब वह हैलट इमरजेंसी पहुंची तो उन्हें भी स्ट्रेचर नहीं मिला। इसपर बेटे राहुल के कंधे के सहारे ओपीडी तक पहुंची।

खबरें और भी हैं...