पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61765.590.75 %
  • NIFTY18477.050.76 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47189-1.48 %
  • SILVER(MCX 1 KG)631020.23 %

कानपुर...कांशीराम अस्पताल में घंटों लाइन में लगे रहे मरीज:उमस भरी गर्मी में इंतजार के बाद भी नहीं मिला इलाज, 800 से ज्यादा मरीज घर लौटे; अस्पताल ने सर्वर डाउन होने को बताया वजह

कानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कांशीराम अस्पताल में सर्वर ठप होने के चलते लगी लंबी लाइनें - Money Bhaskar
कांशीराम अस्पताल में सर्वर ठप होने के चलते लगी लंबी लाइनें

शहर में वायरल फीवर और डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है, लेकिन कांशीराम अस्पताल में मरीजों का इलाज नहीं हो पा रहा है। सोमवार सुबह ओपीडी में आए मरीजों का परचा ही नहीं बना क्योंकि पर्चा बनाने वाले पोर्टल का सर्वर पहले धीमा हुआ फिर ठप हो गया। इसके अलावा अस्पताल में बने चार काउंटरों में से सिर्फ दो ही चालू हालत में मिले। कर्मचारियों ने इसकी वजह कंप्यूटरों में तकनीकी खराबी बताई।

सर्वर पहले धीमा हुआ और फिर बंद हो गया

कानपुर के सरसौल से कांशीराम अस्पताल में अपने बच्चों को दिखाने पहुंचे राम सुमेर सुबह 8 बजे से लाइन में खड़े थे। दोपहर 12 बजे तक भी जब उनका नंबर नहीं आया तो उन्होंने काउंटर पर ऑपरेटर से बात की। ऑपरेटर ने उन्हें बताया कि सर्वर बहुत धीमे चल रहा है। राम सुमेर के मुताबिक इसके थोड़ी देर बाद उनसे कहा गया कि सर्वर पूरी तरह डाउन हो गया है, अब मंगलवार को आना। ऐसा ही जाजमऊ निवासी शमशाद आलम के साथ भी हुआ। शमशाद अपनी बुखार में तप्ती पत्नी को दिखाने के लिए 10 बजे कांशीराम पहुंचे थे, लेकिन उनसे भी सर्वर डाउन की बात कहकर अगले दिन आने को कहा गया।

रोजाना बनते हैं 1500 से ज्यादा परचे

कांशीराम अस्पताल में रोजाना 1500 से ज्यादा परचे बनते हैं। लेकिन, आज सिर्फ 423 परचे ही बने। साथ ही सोमवार को दो दिन की बारिश के बाद कानपुर में उमस भरी गर्मी हो रही है. इससे लाइन में लगे लोगों का हाल बेहाल हो गया।

800 लोग बिना इलाज के अस्पताल से लौटे

कांशीराम अस्पताल के कर्मचारियों ने बताया कि शुरुआत में सर्वर थोड़ा धीरे चल रहा था लेकिन 12 बजे के आसपास पूरी तरह ठप हो गया। एक बजे ओपीडी का पर्चा बनाने वाले कर्मचारी समय पूरा होने की बात कहकर जाने लगे। ऐसे में इलाज की उम्मीद में घंटों से लाइन में खड़े लोग अन्य अस्पतालों की ओर भागने लगे। जो ज्यादा सीरियस मरीज थे, उन्हें परिजन हैलट अस्पताल ले गए। इस तरह तकरीबन 700 से 800 लोग बिना इलाज के अस्पताल की चौखट से वापस लौट गए।

खबरें और भी हैं...