पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57858.150.64 %
  • NIFTY17277.950.75 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486870.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)63687-1.21 %
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • KDA Will Give Complete Information About Whether The Land, Layout, Township Map Is Near Or Not, Property Details Will Be Available On One ID. KDA, KDA VC, Property In Kanpur, Township In Kanpur, Kanpur

कानपुर... संपत्ति खरीदने से पहले जरूर जाएं KDA:कानपुर विकास प्राधिकरण जमीन, लेआउट, प्रॉपर्टी डिटेल की देगा पूरी जानकारी

कानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आवंटियों को केडीए के बार-बार चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए सत्यापन की व्यवस्था भी 1 घंटे में हो सकेगी। - Money Bhaskar
आवंटियों को केडीए के बार-बार चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए सत्यापन की व्यवस्था भी 1 घंटे में हो सकेगी।

कानपुर में अवैध तरीके से धड़ल्ले से बसाई जा रही अवैध टाउनशिप, प्लॉटिंग और फ्लैट को लेकर केडीए सतर्क हो गया है। कोई भी व्यक्ति सपंत्ति खरीदने से पहले कानपुर विकास प्राधिकरण (केडीए) में जाकर पूरी जानकारी हासिल कर सकता है। अपार्टमेंट का नक्शा पास है और जमीन ग्राम समाज की तो नहीं है। इसके अलावा टाउनशिप बनी है उसका ले आउट पास है या नहीं। इससे आपकी गाढ़ी कमाई बर्बाद नहीं जाएगी।

एक ही आईडी पर पूरी डिटेल
केडीए वीसी अरविंद सिंह के आने के बाद आमजन को राहत देने वाले कार्य किए जा रहे हैं। केडीए अब एक ही आईडी पर बैंक में संपत्ति पर जमा किस्तों को देखा जा सकेगा। अभी तक केडीए के अधिकारी पूरी किश्तें जमा होने के बाद भी लोगों को बकाये को नोटिस भेज देते थे।

लेकिन अब लोगों को परेशानी न हो, इसके लिए केडीए के भूखंड या भवन आवंटियों के लिए एक आईडी नंबर की व्यवस्था बैंक करेंगे। इस आईडी को देखने पर पता चल जाएगा कि कब आवंटी ने किस्त जमा की है और कब-कब जमा की है। इससे फर्जी रजिस्ट्री पर भी लगात लग जाएगी।

एक घंटे में होगा सत्यापन
आवंटियों को केडीए के बार-बार चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए सत्यापन की व्यवस्था भी 1 घंटे में हो सकेगी। अभी तक अवैध तरीके से वसूली के लिए आवंटियों को कर्मचारी दर्जनों चक्कर लगवाते थे। किस्तों के सत्यापन के लिए खुद दस्तावेज संभालकर रखने और अफसरों के चौखट के चक्कर नहीं लगाने होंगे। सारी किस्तों की जानकारी एक आईडी कंप्यूटर में डालते ही सारी जानकारी आ जाएगी। इसके लिए लेखा विभाग को भी सत्यापन के लिए मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी।