पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेडिकल कॉलेज में होगा आयुर्वेदिक दवा का ट्रायल:दवा की गुणवत्ता बेहतर मिलने पर मरीजों को दी जा सकेगी

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ संजय काला, डॉ यशवंत राव और डॉ चयनिका काला - Money Bhaskar
डॉ संजय काला, डॉ यशवंत राव और डॉ चयनिका काला

जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज एलोपैथिक के साथ ही अब आयुर्वेदिक दवाओं के पक्ष में आ गया है। पहली बार इसकी एक दवा का ट्रायल किया जा रहा है, जिसमें उप प्राचार्य प्रो रिचा गिरी, बाल रोग विभागाध्यक्ष प्रो यशवंत राव, डॉ चयनिका काला, डॉ अमृता आदि विशेषज्ञ शामिल है। यह दवा एलर्जी राइनाइटिस से संबंधित बताई जा रही है, जिसका असर मरीजों के स्वास्थ्य पर देखा जाएगा।

बार बार खांसी, छींक आने की समस्या को करेगी दूर
इस दवा के बारे में बताते हुए प्रो यशवंत राव ने बताया कि, बच्चों, युवाओं और बुजुर्गों में बार बार खांसी, छींक आने की समस्या रहती है। यह प्रार्य जगह बदलने, तीज सुगंध और भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जाने पर होनी शुरू हो जाती है। यह एलर्जी राइनाइटिस कहलाती है। नामी आयुर्वेदाचार्य ने ड्रग विकसित किया है, जिसका ट्रायल मेडिकल कॉलेज करने जा रहा है। बाल रोग और मेडिसिन में आने वाले 200 रोगियों पर ट्रायल किया जाएगा। डॉ चयनिका काला मरीजों की गुर्दे, लिवर और यूरिन की रिपोर्ट देखेंगी। यह हर हफ्ते होगा, जिससे दवा के असर का पता चल सकेगा। इस दौरान वहां प्राचार्य प्रो संजय काला भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि मरीजों के इलाज में आयुर्वेद को शामिल करना गलत नहीं है, लेकिन उससे पहले दवा की गुणवत्ता जानना जरूरी है। मेडिकल कॉलेज दवा की पूरी रिपोर्ट तैयार करेगा।

खबरें और भी हैं...